2023 में चार धाम की यात्रा कैसे करे: पूर्ण जानकारी | Char Dham Trip Guide 2023

भारत के उत्तर में बसा बहुत ही खूबसूरत राज्य उत्तराखंड जिसे देवभूमि के नाम से भी जाना जाता है। उत्तराखंड राज्य अपने पर्यावरणीय दशाओं और खूबसूरत वादियों की ओर सभी का मन मोह लेता है।

यहाँ बड़ी संख्या में देश विदेश से लोग चार धाम यात्रा करने आते हैं। हर साल यहाँ लाखों की संख्या में भक्त चार धाम के दर्शन करने आते हैं। 2023 में चार धाम की यात्रा कैसे करे? आज हम आपको इसकी जानकारी देंगे।

Char Dham Trip Guide 2023 भी आपको आर्टिकल में दी जाएगे ताकि आप भी चार धाम यात्रा में जाने से पूर्व इसकी तैयारी कर लें।

Char Dham yatra
Char Dham yatra

आर्टिकल में आपको चार धाम -बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री, गंगोत्री की यात्रा कैसे करें इसकी जानकारी दी जाएगी साथ ही साथ आपको उत्तराखंड के चार धाम के बारे में अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी दी जाएगी।

Char Dham Trip के लिए जरुरी गाइडेंस और यात्रा में जाने से पूर्व जरुरी दिशा-निर्देश क्या है यह भी बताया जायेगा।

Table of Contents

2023 में चार धाम की यात्रा कैसे करे?

नीचे आपको Char Dham yatra Online registration 2023 process को दिया गया है। श्रद्धालु चार धाम के लिए यात्रा ऑनलाइन पंजीकरण हेतु नीचे दिए स्टेप्स को फॉलो करें –

  • सबसे पहले registrationandtouristcare.uk.gov.in पर विजिट करें।
  • वेबसाइट के होम पेज पर Register/Login के बटन पर क्लिक करें।
  • अब आपकी स्क्रीन पर Registration form खुलकर आ जायेगा। char dham registration
  • अब आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म में पंजीकरण हेतु पूछी गयी जानकारी जैसे; अपना नाम ,मोबाइल नंबर ,और पासवर्ड बनाकर कन्फर्म पासवर्ड पर वही पासवर्ड जो आपने बनाया है डालना है।
  • अंत में “SignUp” के बटन पर आपको क्लिक कर लेना है।
  • जैसे ही आप साइन अप कर लेंगे आपका अकाउंट बन जायेगा। अब आपको वेबसाइट पर लॉगिन हेतु Sign In के बटन पर क्लिक करना है। char dham uttrakhand registration login process
  • लॉगिन के लिए अपना यूजर नेम/मोबाइल नंबर और पासवर्ड डालें इसके बाद कैप्चा कोड को बॉक्स में भरें।
  • अंत में Sign In पर क्लिक करें।
  • अब आप वेबसाइट पर लॉगिन हो जायेंगे।
  • लॉगिन के बाद आप 2023 में चार धाम की यात्रा के लिए अपना पंजीकरण ऑनलाइन करने हेतु रजिस्ट्रेशन फॉर्म को भर सकते हैं।
  • फॉर्म को भरने के बाद आपको जरुरी दस्तावेजों को जमा करना है और प्रोसेसिंग फीस को ऑनलाइन या ऑफलाइन जमा करना है।
  • अब अपने ChardhamYatra registration certificate की इलेक्ट्रॉनिक कॉपी को डाउनलोड करें

बद्रीनाथ केदारनाथ गंगोत्री यात्रा (चारधाम यात्रा) पंजीकरण आवेदन फॉर्म कैसे भरें ?

इसके लिए आप नीचे दी गयी वीडियो की सहयता ले सकते हैं –

Key Highlights of Char Dham Yatra 2023

आर्टिकल का नाम 2023 में चार धाम की यात्रा कैसे करे
चार धाम बद्रीनाथ, केदारनाथ, यमुनोत्री, गंगोत्री
चार धाम की स्थिति उत्तराखंड
उत्तराखंड टूरिज्म ऑफिसियल वेबसाइट uttarakhandtourism.gov.in
चारधाम यात्रा के लिए उत्तराखंड पर्यटन विभाग टोल फ्री नंबरउत्तराखंड निवासियों के लिए -1364
अन्य राज्य के निवासियों के लिए – 0135 1364

Documents required for Char Dham Yatra

आपको बता दें की चारधाम यात्रा के लिए आपका रजिस्ट्रेशन होना जरुरी है। आपको यात्रा के दौरान अपने दस्तावेजों को सम्बंधित अधिकारी /पुलिस अधिकारी को दिखाना होता है।

श्रद्धालुओं को यात्रा में जाने के लिए रजिस्ट्रेशन हेतु नीचे दिए गए दस्तावेजों की आवश्यकता होगी –

  • आधार कार्ड /पेन कार्ड /ड्राइविंग लाइसेंस /वोटर आईडी कार्ड

Char Dham Trip Guide 2023

यदि आप भी चारधाम यात्रा करने की सोच रहे हैं तो आपको इससे पूर्व कुछ विशेष बातों का ध्यान रखना होगा। char dham tips आपको नीचे दिए गए हैं –

  • यात्रा के दौरान बोतलबंद पानी का उपयोग करें। अपने साथ बुनियादी आपातकालीन दवाओं (basic emergency medications)का एक बेग जरूर रखें।
  • अपने साथ सनस्क्रीम रखें। यात्रा के दौरान उबला ,पका या तला हुआ खाना खाएं ,अपने साथ कीट से बचने वाली क्रीम रखें।
  • यात्रा में जाने से पूर्व यह सुनिश्चित करें की आप शारीरिक और मानसिक रूप से फिट हों क्यूंकि यात्रा में 14000 फ़ीट की ऊंचाई पर ट्रैकिंग करनी पड़ती है।
  • यात्रा करने से पूर्व कम से कम एक महीने पहले exercises करना शुरू कर दें क्यूंकि यह आपके यात्रा के दौरान काम आएगी।
  • अपने साथ जरुरी चीज़ें जैसे थर्मल बॉडी वार्मर, रेनकोट, स्लीपिंग बैग ,कंबल ,टॉर्च ,वाटरप्रूफ जूते ,ऊनी कपडे आदि साथ रखें।
  • चढ़ाई में चढ़ने के लिए ऐसे कुली या टट्टू को रिराये पर लें जो रजिस्टर्ड हैं। यात्रा के लिए शॉर्टकट का चुनाव न करें यह आपको दुविधा में डाल सकता है।
  • ऐसी महिलायें जो साड़ी पहनती हैं उन्हें सलाह दी जाती है की वह सलवार सूट या ट्राउज़र को अपनी पहली चॉइस रखें क्यूंकि साड़ी के साथ यात्रा करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

Chardham Route

आपको बता दें की चारधाम यात्रा परंपरागत रूप से पश्चिम दिशा से पूर्व की ओर की जाती है। चार धाम की यात्रा यमुनोत्री से शुरू होती है। यह यात्रा यमुनोत्री के बाद गंगोत्री ,गंगोत्री के बाद केदारनाथ और अंत में केदारनाथ से बद्रीनाथ तक की जाती है।

श्रद्धालु/भक्तजन सबसे पहले यमुनोत्री और गंगोत्री जाते हैं और अपने साथ यमुना और गंगा नदी का पवित्र जल लेकर केदारनाथ में इस जल से केदार /शिवजी का जलाभिषेक करते हैं। क्या आप जानते हैं उत्तराखंड के चार धाम को भारत का छोटा चार धाम भी कहा जाता है।

दर्शन करने का रूट = पश्चिम से पूर्व (यमुनोत्री -गंगोत्री -केदारनाथ -बद्रीनाथ)

  • पश्चिम में यमुनोत्री -चारधाम की परम्परागत यात्रा यहाँ से शुरू होती है।
  • यमुनोत्री के बाद भक्त गंगोत्री धाम के दर्शन करते हैं।
  • गंगोत्री के बाद केदारनाथ के दर्शन किये जाते हैं।
  • अंत में पूर्व की ओर भगवान् बद्री के दर्शन किये जाते हैं।

नोट -चारधाम यात्रा परंपरागत रूप से पश्चिम दिशा यमनोत्री से पूर्व की ओर जाते हुए
अंत में बद्रीनाथ के दर्शन के साथ संम्पन्न होती है।

चारधाम उद्घाटन की तारीखें 2023

उत्तराखंड के चार धाम दर्शन के लिए कपाट खुलने की अनुमानित तिथि नीचे सूची में दी गयी है –

चार धाम का नामकपाट खुलने की तिथि कपट बंद होने की तिथि
(अनुमानित)
यमनोत्री धाम22 अप्रैल 2023 (अनुमानित)14 नवम्बर 2023
गंगोत्री धाम22 अप्रैल 2023 (अनुमानित)14 नवम्बर 2023
केदारनाथ धाम25 अप्रैल 2023 (अनुमानित)14 नवम्बर 2023
बद्रीनाथ धाम27 अप्रैल 2023 (अनुमानित)20 नवम्बर 2023

चारधाम हेलीकाप्टर सेवायें

  • हेरिटेज एविएशन
  • ग्लोबल वेक्ट्रा
  • सार एविएशन
  • शिखर एयर
  • पवन हंस
  • हिमालयन हेली

उत्तराखंड में चारधाम के दौरान हेलीकाप्टर सेवा

हेलीकॉप्टर सेवा पैकेज स्टेशन
prabhatam aviation केदारनाथ ,बद्रीनाथ,दो धाम,चार धाम दिल्ली ,देहरादून ,फाटा
Timberline Helichartersकेदारनाथ,बद्रीनाथ,दो धाम,चार धाम देहरादून ,हरसिल

नोट -चारधाम यात्रा 2023 के लिए पंजीकरण अनिवार्य है।

उत्तराखंड में यात्रा हेतु पंजीकरण केंद्रों की सूची

ऐसे सभी श्रद्धालु /भक्त जो ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया पूरी करने में असमर्थ हैं उन्हें परेशान होने की आवश्यकता नहीं है। सभी भक्त चारधाम यात्रा के लिए अगर चाहें तो राज्य में विभिन्न स्थानों पर स्थित पंजीकरण केंद्रों में अपना ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। नीचे आपको राज्य में स्थित पंजीकरण केंद्र कौन कौनसे हैं इसकी लिस्ट दी गयी है –

जिलों के नाम जिले में स्थित पंजीकरण केंद्र
हरिद्वारराही होटल
उत्तरकाशीगंगोत्री
उत्तरकाशीजन की चट्टी
उत्तरकाशीहिना
देहरादूनगुरुद्वारा, ऋषिकेश
देहरादूनRTO
देहरादूनISBT, Rishikesh
हरिद्वाररेलवे स्टेशन
चमोलीपाखी
चमोलीबद्रीनाथ
रुद्रप्रयागसोन प्रयाग
रुद्रप्रयागकेदारनाथ
उत्तरकाशीयमुनोत्री
उत्तरकाशीगंगोत्री
चमोलीगोविंद घाट
चमोलीजोशीमठ
चमोलीहेमकुंड साहिब
चमोलीहेमकुंड साहिब
चमोलीबद्रीनाथ
रुद्रप्रयागफट्टा
रुद्रप्रयागगौरीकुंड
उत्तरकाशीडोबट्टा, बड़कोट
रुद्रप्रयागकेदारनाथ

दस्तावेज वेरिफिकेशन केंद्रों की सूची

आप अपने दस्तावेजों को नीचे दिए गए केंद्रों में सत्यापित करा सकते हैं-

  • चमोली
  • उत्तरकाशी
  • रुद्रप्रयाग
  • यमुनोत्री
  • बद्रीनाथ
  • हेमकुंड साहिब
  • केदारनाथ

2023 में केदारनाथ कैसे जाएँ ?

केदारनाथ उत्तराखंड के चार धामों में से एक धाम है। यह उत्तर भारत के राज्य उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में पड़ता है। केदार घाटी 3584 मीटर की ऊंचाई पर है। आप केदारनाथ ट्रैक ,दांडी ,कंडी या हेलीकाप्टर द्वारा पहुंच सकते हैं। केदारनाथ का ट्रैक रूट लगभग 18 किलोमीटर लंबा है। आप केदारनाथ सड़क मार्ग ,हवाई जहाज ,ट्रैन से जा सकते हैं।

केदारनाथ की दूरी

  • दिल्ली से केदारनाथ की दूरी – 458 किलोमीटर
  • चण्डीग़ढ से केदारनाथ की दूरी -387 किलोमीटर
  • नागपुर से केदारनाथ -1421 किलोमीटर
  • बंगलौर से केदारनाथ -2484 किलोमीटर

ऋषिकेश से केदारनाथ का रूट (223 किलोमीटर)

Rishikesh- Devaprayag (70 kms)-Srinagar (35 kms)- Rudraprayag (34 kms)- Tilwara (9kms)- Agastamuni (10 kms- Kund (15 kms) -Guptkashi (5 kms)- Phata (11 kms) -Rampur (9 kms)-SonPrayag (3 kms) -Gaurikund (5 kms- Jungle Chatti (6 kms) -Bheembali (4 Kms) -Linchauli (3 Kms) -Kedarnath Base Camp (4 kms- Kedarnath (1 Kms).

हवाई मार्ग से केदारनाथ कैसे जाएँ ?

हवाई जहाज से केदारनाथ के लिए आप देहरादून हवाई अड्डा जोलीग्रांट जा सकते हैं। यह केदारनाथ से लगभग 239 किलोमीटर की दुरी पर है। आप ऋषिकेश से जोशीमठ के लिए टैक्सी बुक कर सकते हैं।

आप उत्तराखण्ड के विभिन्न स्थानों से संचालित होने वाली हेलीकाप्टर सेवाओं के माध्यम से केदारनाथ जा सकते हैं। केदारनाथ जाने के लिए हेलीकाप्टर pawan Hans ,heritage aviation ,UT air, Himalayan heli आदि हैं।

बद्रीनाथ धाम कैसे जाएँ ?

badrinath dham भारत के उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में पड़ता है। बद्रीनाथ चमोली जिले में एक हिन्दू पवित्र शहर और नगर पंचायत है। यह लगभग 3415 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

जोकि नर और नारायण पहाड़ियों के बीच स्थित है। अलकनंदा नदी के तट पर बसा यह धाम देहरादून (उत्तराखंड) के जोलीग्रांट से लगभग 317 किलोमीटर की दूरी पर है।

बद्रीनाथ की दूरी

  • ऋषिकेश से बद्रीनाथ की दूरी -301 किलोमीटर
  • फूलों की घाटी से बद्रीनाथ की दूरी -70 किलोमीटर
  • Gaurikund (near Kedarnath) से Badrinath की दूरी -233 कि.मी
  • कोटद्वार से बद्रीनाथ की दुरी -327 किलोमीटर
  • दिल्ली से बद्रीनाथ की दूरी -525 किलोमीटर
  • जयपुर से बद्रीनाथ की दूरी -801 किलोमीटर
  • बंगलौर से बद्रीनाथ की दूरी -2495 किलोमीटर

ऋषिकेश/हरिद्वार से बद्रीनाथ का रूट (324 किलोमीटर) ऋषिकेश से बद्रीनाथ (298 km)

हरिद्वार – (24 किमी) ऋषिकेश – (71 किमी) देवप्रयाग – ( 30 किमी) कीर्तिनगर – (4 किमी) श्रीनगर – (34 किमी) रुद्रप्रयाग – (20 किमी) गौचर – (12 किमी) कर्णप्रयाग – (20 किमी) नंदप्रयाग – (11 किमी) चमोली – (8 किमी) बिरही – (9 किमी) पीपलकोटी – (5 किमी) गरुड़ गंगा – (15 किमी) हेलंग – (14 किमी) जोशीनाथ – (13 किमी) विष्णुप्रयाग – (8 किमी) गोविंदघाट – ( 3 किमी) पांडुकेश्वर – (10 किमी) हनुमानचट्टी – (11 किमी) श्री बद्रीनाथ धाम ।

ट्रैन /बस और हवाई मार्ग से बद्रीनाथ कैसे जाएँ ?

देहरादून से बद्रीनाथ के लिए कई हेलीकाप्टर सेवा प्रदान की गयी हैं। हेलीकॉप्टर से बद्रीनाथ की यात्रा लगभग 100 किलोमीटर है। आप बद्रीनाथ के सबसे निकट रेलवे स्टेशन ऋषिकेश ,हरिद्वार और कोटद्वार से जा सकते हैं।

सबसे अच्छा रेलवे स्टेशन हरिद्वार है। यदि आप ट्रैन से बद्रीनाथ जाना चाहते हैं तो हरिद्वार रेलवे स्टेशन से जाएँ क्यूंकि ऋषिकेश फ़ास्ट ट्रैन से नहीं जुड़ा है और कोटद्वार में बहुत कम ट्रेनें हैं।

बस से बदरीनाथ जाने के लिए दिल्ली से आपको लगभग 525 किलोमीटर का सफर तय करना होगा। ऋषिकेश से आपको बद्रीनाथ जाने के लिए 296 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी। दिल्ली ,हरिद्वार और ऋषिकेश से आप बद्रीनाथ के लिए बसा सेवा ले सकते हैं। यहाँ से नियमित अंतराल पर बद्रीनाथ के लिए बसें चलायी जाती हैं।

गंगोत्री कैसे जाएँ ?

गंगोत्री उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले में है यह धाम 3048 मीटर की ऊंचाई पर है। गंगोत्री देहरादून (उत्तराखंड) से लगभग 300 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। गंगोत्री ऋषिकेश से 250 और उत्तरकाशी से 105 किलोमीटर की दूरी पर है। गंगोत्री दिल्ली से 452 किलोमीटर की दुरी पर है।

आप उत्तराखंड ,उत्तर-प्रदेश, दिल्ली से सड़क मार्ग द्वारा आसानी से पहुंच सकते हैं। आप ट्रैन से भी गंगोत्री धाम पहुंच सकते हैं। गंगोत्री धाम के सबसे निकट रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है।

हवाई मार्ग से गंगोत्री कैसे जाएँ ?

गंगोत्री से सबसे नजदीक हवाई अड्डा जोलीग्रांट है। यह ऋषिकेश से लगभग 26 किलोमीटर की दुरी पर है। हवाई अड्डे से आप गंगोत्री जाने के लिए टैक्सी या बस ले सकते हैं।

गंगोत्री की दूरी विभिन्न स्थानों से –

Uttarkashiगंगोत्री97 कि.मी
Tehriगंगोत्री167 कि.मी
Dharasuगंगोत्री125 कि.मी
Yamunotriगंगोत्री232 कि.मी
मसूरीगंगोत्री250 कि.मी
ऋषिकेशगंगोत्री249 कि.मी
देहरादूनगंगटोरी300 कि.मी

दिल्ली से गंगोत्री रोड़ रूट

  • Route 1 ( Haridwar से ) : Delhi → Haridwar → Rishikesh → Narendranagar → Tehri → Dharasu Bend → Uttarkashi → Bhatwari → Gangnani → Harsil → Gangotri
  • Route 2 (देहरादून से ) : Delhi → Dehradun → Mussoorie → Chamba → Tehri → Dharasu Bend → Uttarkashi → Bhatwari → Gangnani → Harsil → Gangotri

उत्तराखंड की आपातकालीन सेवाओं के हेल्पलाइन नंबर

यदि यात्रा के दौरान आप किसी आपात स्थिति में फंस जाते हैं तो आप नीचे दिए गए आपातकालीन सेवाओं के हेल्पलाइन नंबर पर कॉल कर सकते हैं –

आपातकालीन सेवा के बारे मेंहेल्पलाइन नंबर की सूची
पुलिस विभाग112
महिला हेल्पलाइन1090
एम्बुलेंस108
फायर ब्रिग्रेड101
टूरिस्म हेल्पलाइन/यात्रा कण्ट्रोल रूम0135 – 2559898
टूरिस्ट इनफार्मेशन सर्विस1364

ऐसे करें चार धाम यात्रा के लिए ऑनलाइन होटल बुक

आप ऑनलाइन चार धाम यात्रा के लिए होटल बुक कर सकते हैं। इसके लिए आप उत्तराखंड पर्यटन विभाग की होटल बुकिंग के आधिकारिक वेबसाइट gmvnonline.com पर जाकर प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।

  • सबसे पहले वेबसाइट gmvnonline.com पर जाएँ।
  • वेबसाइट पर पहुंचते ही आपको जिला का चयन करना है।
  • अब जिले को चुन लेने के बाद कॉटेज को सेलेक्ट करें।
  • कॉटेज सेलेक्ट करने के बाद आपके सामने होटल्स और होटल के चार्जेस की लिस्ट खुल जाएगी।
  • यहाँ से आपको अपनी पसंद के अनुसार hotel को सेलेक्ट करना है और online book का बटन पर क्लिक करना है।
  • इस तरह से आप ऑनलाइन अपना मनपसंद होटल बुक कर सकते हैं।

Download Tourist Care Uttarakhand Mobile App

आप उत्तराखंड पर्यटन विभाग द्वारा विकसित की गयी Tourist care Uttarakhand मोबाइल एप्लीकेशन को अपने फ़ोन पर आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

आप इस एप्लीकेशन की सहायता से कभी भी कहीं भी अपने मोबाइल द्वारा चारधाम यात्रा या उत्तराखंड की अन्य यात्रा हेतु समय सारणी , होटल बुकिंग आदि की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं।

Tourist Care Uttarakhand Mobile App आईफोन यूजर के लिए विकसित किया गया है। आप इस लिंक से Tourist Care Uttarakhand Mobile App को download कर सकते हैं।

Important details –

उत्तराखंड टूरिस्ट डेवलपमेंट बोर्ड का पता उत्तराखंड टूरिस्ट डेवलपमेंट बोर्ड पंडित दीनदयाल उपाध्याय पर्यटन भवन, नियर ongc हेलिपैड ,गढ़ी कैंट
देहरादून -248001 (इंडिया)
tourist care uttrakhand email touristcare.uttarakhand@gmail.com
हेल्पलाइन नंबर 0135 – 2559898,
2552627, 0135 – 3520100

Important Links

बद्रीनाथ गूगल मैप यहाँ क्लिक करें
केदारनाथ गूगल मैप यहाँ क्लिक करें
गंगोत्री गूगल मैप यहाँ क्लिक करें
यमुनोत्री गूगल मैप यहाँ क्लिक करें

Char Dham Yatra 2023 से सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs)-

चार धाम यात्रा पंजीकरण के लिए आधिकारिक वेबसाइट क्या हैं ?

चार धाम यात्रा पंजीकरण के लिए official website registrationandtouristcare.uk.gov.in है। आप इस वेबसाइट पर जाकर चार धाम यात्रा के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। ऊपर आर्टिकल में हमारे द्वारा Char Dham Yatra 2023 registration process online दिया गया है। आप आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ें।

क्या उत्तराखंड के चार धाम यात्रा के लिए सभी को पंजीकरण कराना आवश्यक है ?

जी हाँ ! Char Dham Yatra 2023 की यात्रा के लिए आपको अपना रजिस्ट्रेशन अनिवार्य रूप से करना होगा।

ऑनलाइन होटल बुकिंग के लिए आधिकारिक वेबसाइट क्या हैं ?

ऑनलाइन होटल बुकिंग के लिए आधिकारिक वेबसाइट gmvnonline.com है। आप चाहें तो विभिन्न होटल्स की वेबसाइट पर जाकर भी ऑनलाइन बुकिंग करा सकते हैं।

किस दिन से चार धाम यात्रा 2023 शुरू होगी ?

चार धाम यात्रा 2023 ,इस वर्ष अप्रैल मई 2023 से शुरू होने का अनुमान है। धाम के कपाट अप्रैल माह से खुल जायेंगे।

Leave a Comment

Join Telegram