ई एस आई (ESI) क्या होता है | ESI Full Form | लाभ, ESI से उपचार | ESI रजिस्ट्रेशन कैसे करें

हर व्यक्ति के जिंदगी में कभी न कभी ऐसा क्षण जरूर आता है जब वह ऐसी स्थिति में होता है जहाँ उसका स्वास्थ्य उसे जबाव दे देता है। हम सभी जानते हैं की आजकल स्वास्थ्य बीमा कितना जरूरी हो गया है। पलक झपकते ही कब किसे किन स्वास्थ्य सम्बंधित परेशानियों का सामना करना पड़ जाए कोई नहीं जनता। आज हम आपको जिस विषय के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं वह स्वास्थ्य बीमा योजना (Health Insurance Plan)

ई एस आई (ESI) क्या होता है | ESI Full Form | लाभ | ESI से उपचार | ESI रजिस्ट्रेशन कैसे करे
ई एस आई (ESI) क्या होता है

यह स्वास्थ्य बीमा प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले कर्मचारियों से सम्बंधित है। आज के इस लेख में हम आपको ई एस आई (ESI) क्या होता है? ESI Full Form, लाभ, ESI से उपचार और ESI रजिस्ट्रेशन कैसे करें? सभी की जानकारी देंगे। यदि आप प्राइवेट सेक्टर से जुड़े हैं तो यह आर्टिकल आपके लिए बहुत उपयोगी होगा।

देश के नागरिकों के स्वास्थ्य के लिए प्रधानमंत्री मोदी जी ने पीएम डिजिटल हेल्थ मिशन शुरू किया है, जिसके अंतर्गत सभी का एक डिजिटल कार्ड बनेगा और इसमें स्वास्थ्य से जुड़े सभी रिकॉर्ड को सुरक्षित रखा जाएगा।

ई एस आई (ESI) क्या होता है?

शायद ही आपमें से कई लोग ई एस आई (ESI)के बारे में पूरी जानकारी रखते हों। हम सभी जानते हैं की कोरोना के समय देश में कैसे हालात थे और इस बार फिर से इस महामारी ने अपनी दस्तक दे दी है। महामारी और विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं से हमें कभी न कभी दो चार होना पड़ता है। भारत सरकार द्वारा कई प्रकार की स्वास्थ्य योजनाएं नागरिकों के लिए चलायी जाती हैं जिनका लाभ भी नागरिकों को दिया जाता है।

पर जरुरी नहीं आप हर योजना के लाभ लेने हेतु पात्र हों। ई एस आई (ESI) उन व्यक्तियों के लिए काफी अच्छी स्वास्थ्य बीमा योजना है जो प्राइवेट सेक्टर में काम कर रहे हैं।

ESI का पूरा नाम Employees State Insurance है जो एक Health Insurance Plan है। इस स्कीम को ऐसे सभी प्राइवेट संस्थाओं में लागू किया जाता है जहाँ कर्मचारियों की संख्या 10 या 20 से अधिक हो। Employees State Insurance (ESI) में Employees को फ्री मेडिकल फैसिलिटी दी जाती है।

प्राइवेट कर्मचारियों को ESI के द्वारा चिकित्सा और नकद लाभ भी प्राप्त होता है। Employees State Insurance के तहत प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को कार्य के दौरान किसी भी प्रकार की दुर्घटना होने कर इसका लाभ प्रदान किया जाता है।

Key Highlights of ESI

आर्टिकल का नाम ई एस आई (ESI) क्या होता है, ESI Full Form लाभ,
उपचार और ESI रजिस्ट्रेशन कैसे करें?
ESI का पूरा नाम Employees State Insurance (कर्मचारी राज्य बीमा)
सम्बंधित मंत्रालय श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
ई एस आई के लाभार्थी देश के प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारी जिनकी आय 21 हजार या इससे कम है
ईएसआई के लाभ चिकित्सकीय लाभ, मातृत्व लाभ, बेरोजगारी भत्ता आदि
ESI Treatment बड़ी बीमारी हेतु SI हॉस्पिटल में भर्ती के लिए आपको FORM 4 को भरना होगा 
ESI registration process ऑनलाइन
ESI की ऑफिसियल वेबसाइट esic.gov.in

ESI की Full Form क्या है

ESI का पूरा नाम Employees State Insurance है इसे हिंदी में कर्मचारी राज्य बीमा के नाम से जाना जाता है। इस बीमा को ESIC यानी कर्मचारी राज्य बीमा निगम के द्वारा संचालित किया जाता है।

  • ESI full form in English –Employees State Insurance
  • ESI Full Form in hindi – कर्मचारी राज्य बीमा

ईएसआई से उपचार (Treatment with ESI)

आपको इस योजना का लाभ लेने के लिए बहुत कम अंशदान देना होता है जिसके बाद आपको ESI का लाभ प्राप्त किया जाता है। कर्मचारियों को Employees State Insurance के तहत कुछ धन जमा करना होता है। जो कि ईएसआई एक्ट 1948 के तहत प्रयोग में लाया जाता है। ईएसआई यानी Employees State Insurance Corporation (ESIC) भारत सरकार के श्रम एवं रोजगार मंत्रालय (ministry of labor and employment) के अधीन आता है।

ईएसआई के अंतर्गत आप अपनी कंपनी का कार्ड दिखाकर छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी बीमारी के उपचार हेतु लाभ ले सकते हैं। आप कम्पनी के कार्ड से आम बीमारियों सर्दी ,जुकाम की दवाई ले सकते हैं और किसी ऑपरेशन की स्थिति में ईएसआई अस्पताल में भर्ती होने के लिए एक फॉर्म को भरना होता है।

आप इस कार्ड की सहायता से किसी भी अस्पताल में अपने और अपने परिवार के सदस्यों का इलाज करा सकते हैं। हॉस्पिटल में भर्ती के लिए Employees State Insurance का लाभ लेने हेतु आपको फॉर्म 4 भरना होता है।

Benefit Of ESI (ईएसआई के फायदे)

इस स्कीम के तहत आने वाले कर्मचारियों और उनके परिवार को कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ प्रदान किये जाते हैं। कुल 11 प्रकार के लाभ कर्मचारी और उनके परिवार के सदस्य इसमें पा सकेंगे –

  • चिकित्सकीय लाभ – राज्य सरकार द्वारा बीमित कर्मचारी और उसके परिवार को चिकित्सा लाभ।
  • बीमारी लाभ – बीमित कर्मचारी को बिमारी के दौरान ली गयी छुट्टी के लिए 91 दिनों का नगद भुगतान किया जायेगा।
  • निशक्तता लाभ – बीमा धारक कर्मचारी को टेम्पररी डिसिब्लिटी की स्थिति में ठीक होने तक मासिक पेंशन, परमानेंट डिसेबिलिटी की स्थिति में लाइफ टाइम मासिक पेंशन प्रदान की जाएगी।
  • आश्रितजन लाभ
  • मातृत्व लाभ – डिलीवरी में 26 हफ्ते ,गर्भपात की स्थिति में 6 हफ्ते, दत्तक माँ को 12 हफ्ते का दैनिक वेतन का 100 प्रतिशत भुगतान दिया जायेगा।
  • बेरोजगारी भत्ता – बीमित व्यक्ति के रोजगार से अलग होने पर चोट लगने के कारण परमानेंट डिसेबल होने पर उसे 24 महीने (2 साल) तक मासिक भत्ता मिलेगा।
  • वृद्धावस्था चिकित्सा लाभ -रिटायर्ड होने पर बीमित कर्मचारी को ईएसआई अस्पतालों और औषधालयों में चिकित्सा लाभ।
  • शारीरिक पुनर्वास – कार्य के दौरान चोट की स्थिति में डिसेबल होने की स्थिति में बीमित कर्मचारी को कृत्रिम अंग केंद्र में भर्ती की अवधि तक।
  • प्रसूति व्यय – किसी अन्य अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं को 7500 रुपए की दर से नकद भुगतान यह लाभ महिलाओं को दो बार दिया जाता है।
  • व्यावसायिक प्रशिक्षण – कार्य के दौरान चोट लगने से डिसेबल होने के मामले में 123 रुपए प्रतिदिन के अनुसार बीमा धारक व्यक्ति को दिया जायेगा।
  • अंत्येष्टि व्यय – बीमा धारक व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसकी अंत्येष्टि के लिए मूल व्यय या अधिकतम 15 हजार रुपए का नगद भुगतान किया जाता है।

ESI रजिस्ट्रेशन कैसे करें? (ESI Registration for New Employee)

  • सबसे पहले आपको ESIC की आधिकारिक वेबसाइट esic.gov.in पर विजिट करना होगा।
  • होमपेज पर अब आपको स्क्रीन की नीचे की ओर दिए गए ‘Employee Login’ के सेक्शन पर जाना होगा और इसपर क्लिक करना होगा। new employee esi registration
  • अब आपको ’employer login’ के लिए username /LIN और Password, captcha code को डालना होगा।और LOGIN बटन पर क्लिक करना होगा। esi employee registration
  • अब आपकी स्क्रीन पर नया पेज खुलेगा जहाँ आपको employee कॉलम के अंदर दिए गए Register new ip के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • new employee registration on esi portal
  • अब यहाँ पर कंपनी के Employer/Subunit Code Number दिखाई देंगे।
  • यदि कर्मचारी का पहले से ही पुरानी कंपनी में ईएसआई अकाउंट है तो आपको IS IP ALREADY REGISTERED के ऑप्शन के सामने ‘Yes’ पर क्लिक करना है। यदि नहीं है तो ‘NO’ पर क्लिक करें।
  • अब आपकी स्क्रीन पर EMPLOYEES REGISTRATION FORM-1 खुलेगा आपको इस फॉर्म में सभी जरुरी जानकारी भरनी होगी।
  • सभी जानकारियों को भरने के बाद Declaration के सामने दिए CHEK BOX पर क्लिक करें।
  • अंत में आपको submit बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप अपना ESI रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया को पूरा कर सकेंगे।

नोट -नए कर्मचारी को ESI Registration process को पूरा करने के बाद PRINT COUNTER FOIL पर क्लिक करना होगा जिससे आपको 2 माह का अस्थायी मेडिकल कार्ड मिलेगा।

ईएसआईसी अस्पताल सूची कैसे देखें ?

ESIC Hospital list चेक करने के लिए आपको नीचे दिए प्रोसेस को फॉलो करना होगा। आप नीचे दी गयी प्रक्रिया से पोर्टल पर उपलब्ध विभिन्न राज्यों में उपलब्ध ईएसआईसी अस्पताल की लिस्ट चेक कर सकते हैं साथ ही उस हॉस्पिटल्स की कांटेक्ट डिटेल्स भी देख पायेंगें। –

  • सबसे पहले आपको esic की ऑफिसियल वेबसाइट esic.gov.in पर विजिट करना होगा।
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको ऊपर की ओर मेनूबार में health services के ऑप्शन पर क्लिक करना है।
  • अब आपको इसके नीचे esic hospitals (run by ESIC) के ऑप्शन पर क्लिक करना है। hospital run by esic ; ईएसआईसी अस्पताल सूची देखें
  • क्लिक करते ही आपकी स्क्रीन पर नया पेज ओपन होगा जहाँ आपको विभिन्न राज्यों के नाम और उन राज्यों में ESIC द्वारा चलाये जा रहे Hospital की सूची दिखाई देगी। esic hospital list check online state wise
  • इस प्रकार से आप ईएसआईसी अस्पताल सूची चेक कर सकते हैं।

हेल्पलाइन नंबर

  • toll free number -1800-11-2526
  • medical helpline – 1800-11-3839

ई एस आई (ESI) क्या होता है से सम्बंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल –

ESI क्या है ?

ईएसआई कम आय वाले कर्मचारियों के लिए स्वास्थ्य बीमा योजना है जिसका लाभ निजी कंपनियों, फ़ैक्टरियों, कारखानों में काम करने वाले कर्मचारियों को मिलता है।

वर्तमान में ईएसआई के देश भर में कितने हॉस्पिटल हैं ?

मौजूदा समय में ई एस आई (ESI) के देश में 151 हॉस्पिटल हैं।

कर्मचारियों को कितनी सैलरी पर ईएसआई का लाभ मिलता है ?

ऐसे कर्मचारी जिनकी मासिक आय 21 हजार या इससे कम है उन्हें ईएसआई का लाभ दिया जाता है। दिव्यांगजनों के मामले में 25000 या इससे कम आय के कर्मचारियों को इसका लाभ मिलता है।

यह भी जानें –

Leave a Comment