(रजिस्ट्रेशन) मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन, लाभ व पात्रता सूची

Mukhyamantri Bal Seva Yojana Online Apply | मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना आवेदन | Mukhyamantri Bal Seva Yojana Online Application Form | मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना पात्रता सूची

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा बाल सेवा योजना की शुरुआत 30 मई 2021 को की गयी है। इस योजना के अंतर्गत उन सभी लोगो को सहायता प्रदान की जाएगी। जिनके माता-पिता की मृत्यु कोविड-19 के समय में हुई है। कोरोना माहमारी में अनाथ हुए सभी बच्चों को उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से शिक्षा से लेकर विवाह तक का खर्च योजना के अंतर्गत वहन किया जायेगा। बच्चों के लालन पोषण हेतु Mukhyamantri Bal Seva Yojana के तहत 4 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी। आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन, लाभ व पात्रता सूची से जुड़ी जानकारी को साझा करने जा रहे है। अतः योजना से संबंधित अधिक जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

(रजिस्ट्रेशन) मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022: ऑनलाइन आवेदन, लाभ व पात्रता सूची
मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना रजिस्ट्रेशन

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022

Mukhyamantri Bal Seva Yojana– कोरोना महामारी में अनाथ हुए बच्चों को सहायता प्रदान करने हेतु उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा यह योजना शुरू की गयी है। इस योजना के अंतर्गत कोरोना माहमारी में अपने अभिभावक को खोने वाले सभी बच्चों को आर्थिक सहायता राशि के साथ-साथ उनके शिक्षा एवं विवाह तक का खर्च योगी सरकार के द्वारा उठाया जायेगा। इस योजना के अंतर्गत यदि बच्चे की आयु 10 वर्ष से कम है एवं उनके अभिभावक नहीं है, तो ऐसे बच्चो के लिए सरकार के द्वारा राजकीय बाल गृह में आवासीय सुविधा प्रदान की जाएगी। साथ ही अनाथ बालिकाओं के लिए भी यह सुविधा उपलब्ध की गयी है। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 उन सभी बच्चों को टैबलेट और लैपटॉप वितरण किये जायेंगे जो स्कूल और कॉलेज में पढाई कर रहे है।

Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022– कोविड-19 के समय में अपने माता-पिता में से किसी एक को खोने वाले बच्चे भी इस योजना का लाभ उठा सकते है। इस योजना के अंतर्गत योगी सरकार के द्वारा अभी तक 6 हजार बच्चों को लाभ प्रदान किया जा चुका है। महिला एवं बाल विकास विभाग के माध्यम से योजना का कार्यान्वयन किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत प्राप्त आवेदन पत्रों का सत्यापन करके महिला एवं बाल विकास विभाग के माध्यम से लाभार्थियों का चयन किया जाता है। अभी हाल ही ही विभाग की ओर से 2 हजार नए बच्चो को चयनित किया गया है।

कोरोना में अनाथ हुए बच्चों के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए योगी सरकार के द्वारा यह योजना शुरू की गयी है। इस योजना के अंतर्गत अब अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को सहायता प्रदान की जाएगी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन

योजना का नाममुख्यमंत्री बाल सेवा योजना
योजना शुरू की गयी उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से
वर्ष 2022
लाभार्थीकोविड-19 के समय में अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चे
उद्देश्यकोरोना महामारी के समय में अनाथ हुए
बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइट
आर्थिक सहायता4 हजार रुपये प्रतिमाह
लाभ शिक्षा एवं विवाह तक का खर्च सरकार के द्वारा वहन
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन

Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 के उद्देश्य

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना– का मुख्य उद्देश्य है उन सभी बच्चों को सहायता प्रदान करना जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोना के कारण हुई है। ऐसे बच्चों के हित के लिए यह योजना राज्य भर में लागू की गयी है। राज्य में कई ऐसे बच्चे है जिन्होंने कोविड-19 के समय में अपने माता-पिता को खोया है और उनकी देखभाल करने के लिए उनका किसी तरह का कोई सहारा नहीं है। अनाथ हुए सभी बच्चो को योगी सरकार की इस योजना के अंतर्गत सभी प्रकार की मदद प्रदान की जाएगी। जैसे -शिक्षा के लिए मदद ,पालन पोषण के लिए मदद और बालिकाओं के विवाह हेतु सहायता राशि प्रदान की जाएगी। प्रत्येक माह के अनुसार योजना के माध्यम से लाभार्थी बच्चों को 4 हजार रुपये की वित्तीय सहायता राशि डीबीटी के अंतर्गत बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी। योजना को बेहतर बनाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से उन सभी अनाथ बच्चों को भी योजना में शामिल करने का निर्णय लिया गया है जिनके माता-पिता की मृत्यु अन्य कारणों से हुई है।

बाल सेवा योजना में अनाथ हुई बालिकाओं को विवाह हेतु सहायता राशि

Bal Seva Yojana के अंतर्गत अनाथ हुए बच्चों को आर्थिक सहायता राशि प्रदान करने हेतु यह योजना शुरू की गयी है। इसी के साथ उन सभी बालिकाओं को भी योजना के अंतर्गत विवाह हेतु सहायता राशि प्रदान की जाएगी जो कोरोना के समय में अनाथ हुई है। बालिकाओं को विवाह हेतु आर्थिक सहायता राशि प्रदान करने हेतु कार्य करने हेतु जनपदीय स्तर टास्क फ़ोर्स का गठन किया गया है। इस योजना के अंतर्गत शादी योग्य होने पर लाभार्थी बालिकाओं को एक लाख एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि वितरण की जाएगी। बाल सेवा योजना के अंतर्गत लाभार्थी बालिकाओं को विवाह हेतु यह राशि आवेदन करने के 15 दिनों के भीतर आवेदन पत्र की जांच होने के उपरान्त प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत सहायता राशि प्रदान करने हेतु चयनित की गयी सभी बालिकाएं एवं उनके अभिभावक सीधे संरक्षक इकाई से सम्पर्क कर सकते है।

विवाह हेतु आर्थिक सहायता राशि लेने के लिए आवेदन

कोविड-19 के कारण अनाथ हुई बालिकाओं को इस तरह से वित्तीय सहायता राशि के लिए आवेदन करना होगा। बाल सेवा योजना के अंतर्गत वह सभी बालिकाएं आवेदन कर सकती है जिनका विवाह 2 जून 2021 के बाद हुआ है। विवाह होने के 3 माह के अंदर सभी लाभार्थी बालिकाओं को वित्तीय सहायता राशि का लाभ लेने के लिए आवेदन करना जरुरी है। इसके साथ ही केवल वही बालिकाएं विवाह सहायता राशि लेने के पात्र होगी जिनकी आयु विवाह के समय 18 वर्ष या उससे अधिक रही हो एवं लड़के की आयु 21 वर्ष रही हो। इस योजना के माध्यम से सभी पात्र योग्य लड़कियों को योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए ऑफलाइन मोड में आवेदन करना होगा। ग्रामीण क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले लाभार्थी आवेदन फॉर्म को संबंधित ग्राम विकास अधिकारी, ग्राम पंचायत अधिकारी, विकासखंड या जिला प्रोबेशन अधिकारी के कार्यालय में जमा कर सकते है। इसी के साथ शहरी क्षेत्र के लाभार्थी तहसील कार्यालय में अपने आवेदन फॉर्म को जमा कर सकते है।

बाल सेवा योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता राशि

Bal Seva Yojana– के अंतर्गत लाभार्थियों को योगी सरकार के द्वारा 4 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी। यह सहायता राशि अनाथ हुए बच्चे के लालन पोषण के लिए प्रदान की जाएगी। योजना के अंतर्गत यह सहायता राशि सरकार के माध्यम से तब तक वितरित की जाएगी जब तक बच्चा वयस्क ना हो जाएँ।

इसके साथ ही 10 वर्ष से कम आयु वाले उन सभी अनाथ बच्चों को रहने हेतु सुविधा प्रदान करने के लिए आवासीय सुविधा भी प्रदान की जाएगी। राजकीय बाल गृह में बच्चो को आवास सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी। इन बाल गृह में सभी लाभार्थी बच्चों की देखरेख की जाएगी। उत्तर प्रदेश राज्य में अभी 5 राजकीय बाल गृह स्थित है जो राज्य के विभिन्न जिलों में मौजूद है। मथुरा लखनऊ ,प्रयागराज ,आगरा एवं रामपुर।

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • 30 मई 2021 को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के द्वारा बाल सेवा योजना की शुरुआत की गयी है।
  • इस योजना के अंतर्गत राज्य के उन सभी बच्चों को लाभांवित किया जायेगा जिन्होंने कोरोना के समय में अपने माता-पिता को खोया है।
  • Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 के अंतर्गत सभी लाभार्थी बच्चों को उनके भरण-पोषण हेतु सरकार के माध्यम से 4 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी। यह सहायता राशि तब तक वितरण की जाएगी जब तक बच्चा वयस्क ना हो जाएँ।
  • अनाथ हुई बालिकाओं को इस योजना के अंतर्गत शादी के लिए 1 लाख 1 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि वितरण की जाएगी।
  • यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत लाभार्थी बच्चों को आर्थिक सहायता राशि देने के साथ-साथ शिक्षा एवं विवाह हेतु भी सहायता प्रदान की जाएगी।
  • अनाथ हुए उन सभी बच्चों को आवासीय सुविधा प्रदान की जाएगी जिनके घर में देखरेख करने वाला कोई भी सदस्य मौजूद नहीं है।
  • स्कूल और कॉलेजों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को पढाई के लिए सरकार के द्वारा योजना के अंतर्गत टैबलेट एवं लैपटॉप वितरण किया जायेगा।
  • Bal Seva Yojana का लाभ वह सभी बच्चे भी ले सकते है जिन्होंने अपने घर में आय अर्जित करने वाले सदस्य व्यक्ति को कोविड-19 के कारण खो दिया है।
  • उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत नाबालिग लड़कियों को सरकार के द्वारा कस्तूरबा गाँधी बालिका विद्यालय ,एवं प्रदेश सरकार के द्वारा संचालित राजकीय बाल गृह अटल आवासीय विद्यालयों के माध्यम से शिक्षा एवं आवास की सुविधा प्रदान की जाएगी।

यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना पात्रता

  • बाल सेवा योजना के लिए केवल उत्तर प्रदेश राज्य के मूल निवासी नागरिक आवेदन कर सकते है।
  • इस योजना हेतु केवल वही बच्चे योग्य माने जायेंगे जिन्होंने कोविड-19 के कारण अपने माता-पिता को खोया है।
  • जैविक एवं क़ानूनी रूप से गोद लिए गए एक परिवार के बच्चे इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते है।
  • जिनके माता-या पिता में से कोई एक जीवित था लेकिन कोरोना के कारण उनकी मृत्यु हुई है ऐसे बच्चे भी आवेदन करने के योग्य माने जायेंगे।
  • माता-पिता की मृत्यु के 2 वर्ष के अंदर योजना में आवेदन किया जा सकता है।
  • इस योजना का लाभ आईटीआई प्रशिक्षुओं को भी प्रदान करने हेतु शामिल किया गया है। 18 वर्ष से कम आयु वाले आईटीआई प्रशिक्षु जिसके अभिभावक की मृत्यु कोरोना के कारण हुई है योजना हेतु आवेदन कर सकते है।
  • Mukhyamantri Bal Seva Yojana 2022 में आवेदन करने के लिए आवेदक के पास सभी प्रकार के दस्तावेज होने चाहिए।

आवेदन करने हेतु दस्तावेज

  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र
  • 2019 से मृत्यु का प्रमाण
  • बच्चे एवं अभिभावक की फोटोग्राफ
  • आय प्रमाण पत्र
  • शिक्षण संस्थान में रजिस्ट्रेशन से संबंधी प्रमाण
  • माता-पिता या फिर वेज सरंक्षक का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • विवाह सहायता राशि लेने हेतु विवाह का कार्ड
  • परिवार रजिस्टर की नकल

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2022 आवेदन ऐसे करें

उत्तर प्रदेश बाल सेवा योजना के अंतर्गत आवेदन करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana के अंतर्गत आवेदन करने के लिए लाभार्थियों को अपने क्षेत्र के अनुसार आवेदन प्रक्रिया को पूरा करना होगा।
  • शहरी क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले आवेदनकर्ता को तहसील ,या फिर जिला प्रोबेशन अधिकारी के कार्यालय में जाना होगा।
  • इसी के साथ ग्रामीण क्षेत्रों के अंतर्गत आने वाले आवेदनकर्ता को ग्राम पंचायत अधिकारी या विकासखंड के अंतर्गत आवेदन करना होगा।
  • अपने क्षेत्र के अनुसार कार्यालय में विजिट करके योजना में आवेदन करने के लिए फॉर्म प्राप्त करें।
  • आवेदन फॉर्म प्राप्त करके फॉर्म में दी गयी सभी महत्वपूर्ण जानकारी को दर्ज करें।
  • इसके बाद आवेदन पत्र के साथ मांगे गए सभी दस्तावेजों को फॉर्म के साथ अटैच कर संबंधित कार्यालय में आवेदन फॉर्म को जमा कराएं।
  • आवेदन पत्र की जांच सफल होने के 15 दिनों के बाद चयनित किये गए सभी लाभार्थियों को योजना का लाभ दिया जायेगा।

UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana FAQ

उत्तर प्रदेश सरकार के अंतर्गत बाल सेवा योजना कब शुरू की गयी ?

बाल सेवा योजना उत्तर प्रदेश सरकार के माध्यम से 30 मई 2021 को शुरू की गयी।

मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत किसके लिए की गयी है ?

कोरोना के समय में अपने अभिभावक को खोने वाले अनाथ बच्चों के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू की गयी है।

अनाथ बच्चों को UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana के अंतर्गत क्या लाभ प्राप्त होंगे ?

UP Mukhyamantri Bal Seva Yojana के अंतर्गत अनाथ बच्चों को विभिन्न तरह के लाभ प्राप्त होंगे। बच्चों के लालन पोषण हेतु सरकार के माध्यम से वित्तीय सहायता राशि प्रदान की जाएगी। साथ ही शिक्षा एवं विवाह हेतु भी सहायता राशि प्रदान की जाएगी।

प्रतिमाह के आधार पर लाभार्थी बच्चों को बाल सेवा योजना के अंतर्गत कितनी सहायता राशि प्रदान की जाएगी ?

लाभार्थी बच्चो के भरण पोषण हेतु बाल सेवा योजना के अंतर्गत प्रतिमाह के रूप में 4 हजार रुपये की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की जाएगी।

क्या उत्तर प्रदेश बाल सेवा योजना का लाभ केवल राज्य के मूल निवासी अनाथ बच्चों को प्राप्त होगा ?

जी हाँ केवल उत्तर प्रदेश राज्य के मूल निवासी अनाथ बच्चों को ही बाल सेवा योजना का लाभ मिलेगा।

Leave a Comment