मेरा पानी मेरी विरासत योजना: ऑनलाइन आवेदन, Mera Pani Meri Virasat रजिस्ट्रेशन

यह तो सभी जानते है पानी है तो जीवन है। बगैर पानी के कुछ भी नहीं। पानी को बचाना कितना जरुरी है यह देश के हर एक नागरिक को समझना बहुत जरुरी है जिससे आगे की पीड़ी को पानी के लिए तरसना न पड़े। हरियाणा सरकार द्वारा मेरा पानी मेरी विरासत योजना को शुरू किया गया है। इस योजना को शुरू करने का ऐलान हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर जी द्वारा किया गया है। योजना के माध्यम से राज्य के किसानों को पानी बचाने के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा जिससे भविष्य में पानी की किल्लत न हो सके। अगर आप भी मेरा पानी मेरी विरासत योजना का आवेदन (Mera Pani Meri Virasat Yojana Registration) करना चाहते है तो आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा।

यह भी देखें :- हरियाणा आपकी बेटी हमारी बेटी योजना 2022

मेरा पानी मेरी विरासत योजना

राज्य के ऐसे कई जिले है जहाँ खेती करने के लिए बहुत सारा पानी का उपयोग किया जाता है जैसे: धान की खेती। धान की खेती के लिए बहुत सारे पानी की आवश्यकता पड़ती है। सरकार किसानों को धान की खेती छोड़ के अन्य विकल्पित फसल (अल्टरनेटिव फसल) के उत्पादन के लिए 7 हजार प्रति एकड़ की राशि किसान भाइयों को प्रदान करेगी। आज हम आपको योजना से सम्बंधित सभी जानकारी जैसे: मेरा पानी मेरी विरासत योजना का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें, Mera Pani Meri Virasat Yojana से मिलने वाले लाभ एवं विषेशताएं, योजना का उद्देश्य, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज आदि के बारे में बताने जा रहे है जानकारी जानने के लिए हमारे द्वारा लिखे गए आर्टिकल को अंत तक अवश्य पढ़े।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत सरकार ने राज्य के 19 ब्लॉक को शामिल किया है। जिनमे जमीन के अंदर पानी की गहराई 40 मीटर से ज्यादा है। राज्य के किसान उन क्षेत्रों में खेती नहीं कर सकते जिन ब्लॉक में जमीन के अंदर का पानी 35 मीटर से नीचे होगा। इस योजना के अंतर्गत किसान धान की फसल के बजाय अन्य फैसले जैसे: अरहर, मक्का, कपास, उरद, मूंग, तिल, और अन्य सब्जियां खेतो में ऊगा सके है। इससे उन्हें ज्यादा पानी की आवश्यकता भी नहीं होगी। राज्य के 19 ब्लॉक में से 8 ब्लॉक जैसे: फतेहाबाद में रतिया, कैथल में सीवान, गुहला, पिपली, शाहाबाद, इस्लामाबाद, सिरसा, बबैन आदि में धान की खेती ज्यादा होती है जिससे पानी की खपत बहुत होती है और कई समस्या उत्पन्न होने लगती है।
इन सभी के अलावा इसमें वह क्षेत्र में शामिल किये गए है जहाँ 50 हार्स से ज्यादा वॉट के टूबवेल का इस्तेमाल किया जाता है। आवेदक को योजना का आवेदन करने के लिए कही भी इधर-उधर जाने की आवश्यकता नहीं है वह अपने मोबाइल व कम्प्यूटर के जरिये ऑनलाइन माध्यम से योजना का आवेदन कर सकते है जिसे उनका समय और पैसे दोनों की बचत हो सकेगी।

योजना नाम मेरा पानी मेरी विरासत योजना
के द्वारा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर जी
साल 2022
लाभ लेने वाले राज्य के किसान
विभाग कृषि तथा किसान कल्याण विभाग
उद्देश्य धान की बजाय अन्य वैकल्पिक
खेती हेतु प्रोत्साहित करना
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन मोड
श्रेणी राज्य सरकारी योजना
प्रोत्साहन राशि 7000 रुपये
आधिकारिक वेबसाइट यहाँ क्लिक करें

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का उद्देश्य

योजना को शुरू करने का उद्देश्य यह है कि राज्य के जिन क्षेत्रों में पानी की कमी होती है और वहां धान की खेती की जाती है उन सभी किसानों को धान की खेती के बजाय अन्य वैकल्पिक खेती करने के लिए प्रेरित करना क्यूंकि धान की खेती करने के लिए बहुत सारा पानी का उपयोग किया जाता है जिससे पानी की समस्या राज्य के नागरिकों को झेलनी पड़ती है इसलिए जो किसान धान के बजाय अन्य खेती करते है उन्हें 7 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी। योजना के माध्यम से पानी का उपयोग भी कम हो सकेगा और किसी को पानी की समस्या को नहीं झेलना पड़ेगा।

योजना से मिलने वाले लाभ एवं विषेशताएं

योजना से मिलने वाले लाभ एवं विषेशताएं जानने के लिए दिए गए पॉइंट्स को पूरा पढ़े।

  • राज्य के जो किसान अन्य ब्लॉक से है और योजना के तहत नहीं आते और वह भी धान की खेती की बजाय अन्य वैकल्पिक खेती करना चाहते है तो वह भी इस योजना का आवेदन कर के प्रोत्साहन राशि को प्राप्त कर सकेंगे।
  • अगर कोई किसान मक्का या अन्य वैकल्पिक खेती करते है तो उन्हें मशीनरी उपकरण या अन्य यंत्र हेतु 40% सब्सिडी प्रदान की जाएगी।
  • ऑनलाइन माध्यम से योजना का आवेदन करने पर आवेदक के समय और पैसे दोनों की बचत होगी।
  • आवेदक अपने मोबाइल व कंप्यूटर के माध्यम से योजना का आवेदन कर लाभ प्राप्त कर सकते है।
  • किसान धना की खेती के बजाय मक्का, उरद, कपास, तिल, अरहर, सब्जियां आदि ऊगा सकते है।
  • वैकल्पिक सब्जियों का उत्पादन करके इन्हे मार्किट प्राइस पर बेच सकते है।
  • योजना के तहत आने वाली पीढ़ियों के लिए पानी को कंज़रव (संरक्षण) किया जायेगा।
  • लाभार्थी किसानों को प्रति एकड़ के अनुसार 7 हजार रुपये की सब्सिडी राशि प्रदान की जाएगी।
  • राज्य के 19 ब्लॉकों को इस योजना में शामिल किया गया है।
  • योजना के तहत धनराशि प्राप्त करने के लिए किसानों को ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  • पानी को भविष्य हेतु सेव और सुरक्षित रखने के लिए योजना को शुरू किया गया।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हेतु पात्रता

यदि आप भी मेरा पानी मेरी विरासत योजना का आवेदन करना चाहते है तो आवेदन करने से पहले आपको इसकी पात्रता के बारे में पता होना बहुत ही जरुरी है तभी आप योजना हेतु पंजीकरण कर सकेंगे । आज हम आपको योजना की पात्रता के बारे में बताने जा रहे है जो इस प्रकार से है:

  • योजना का आवेदन करने के लिए आवेदक किसान हरियाणा राज्य के मूलनिवासी होने जरुरी है।
  • आवेदक एक किसान होना चाहिए।
  • आवेदक के पास खुद का बैंक अकाउंट होना बहुत जरुरी है जो आधार कार्ड से लिंक होना अनिवार्य है।
  • आवेदन करने के लिए आवेदक के पास सभी दस्तावेज होने जरुरी है।
आवश्यक दस्तावेज

यदि आप भी योजना का लाभ पाना चाहते है तो आपको इसके लिए योजना में मांगे गए आवश्यक दस्तावेजों की जानकारी होनी बहुत जरुरी है। हम आपको योजना से जुडी जानकारी के बारे में बताने जा रहे है जो इस प्रकार से है:

आधार कार्ड जमीन से जुड़े कागजाद मूलनिवास प्रमाणपत्र
बैंक अकाउंट नंबर बैंक पास बुक रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर
पासपोर्ट साइज फोटो वोटर ID कार्ड पैन कार्ड

मेरा पानी मेरी विरासत योजना का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

अगर आप Mera Pani Meri Virasat Yojana का लाभ लेना चाहते है तो आपको सबसे पहले इसकी पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करना होगा। हम आपको योजना की आवेदन प्रक्रिया के बारे में जानकारी देने जा रहे है। जानकारी जानने के लिए हमारे द्वारा दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • मेरा पानी मेरी विरासत योजनाआवेदक को सबसे पहले किसान कृषि तथा किसान कल्याण विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
  • जिसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आजायेगा।
  • आपको होम पेज पर फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करें के दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। Mera-pani-meri-virasat
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने नया पेज खुल जायेगा।
  • नए पेज पर आपको आधार नंबर भरना है। mera pani meri virasat yojana online awedan
  • और नेक्स्ट के बटन पर क्लिक कर देना है।
  • अब आपको किसान से जुडी सभी जानकारी और भूमि से जुडी सभी जानकारी को भरना होगा।
  • सभी जानकारी भरने के पश्चात आप सबमिट बटन पर क्लिक कर दें।
  • क्लिक करने के पश्चात आपकी पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के विकल्प हेतु आवेदन करने की प्रक्रिया

  • मेरा पानी मेरी विरासत योजनासबसे पहले किसान कृषि तथा किसान कल्याण विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • यहाँ आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आजायेगा।
  • होम पेज पर आपको बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के दिए गए ऑप्शन पर क्लिक करना होगा
  • जिसके बाद आपके सामने फॉर्म खुल जायेगा।
  • फॉर्म पर आपको पूछी गयी जानकारी जैसे: डिस्ट्रिक्ट, ब्लॉक, मोबाइल नंबर, विलेज, किसान का नाम, पति-पिता का नाम, लिंग, केटेगरी आदि को भरना है। Mera-pani-meri-virasat-sheme-online-registration
  • इसके बाद आपको सबमिट बटन पर क्लिक कर देना है।

रिचार्ज शाफ़्ट के लिए आवेदन कैसे करें?

  • सर्वप्रथम आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • यहाँ आपके साथ होम पेज खुल जायेगा।
  • होम पेज पर आपको रिचार्ज शाफ़्ट के लिए आवेदन करें के दिए गए ऑप्शन पर क्लिक कर दें।
  • जिसके बाद आपके सामने नया पेज खुल जायेगा।
  • नए पेज पर आपको रिचार्ज शाफ़्ट निर्माण के प्रकार, आधार नंबर, किसान का नाम, पिता का नाम, मोबाइल नंबर, जिला खंड, क्रॉप नेम, मुरदा नेम, किल्ला नंबर, जिला, ब्लॉक, तहसील, ग्राम, क्रॉप लिस्ट, कैप्चा कोड आदि को भरना है।
  • इसके बाद आपको सेव के बटन पर क्लिक करना है।
  • क्लिक करते ही आपको रिचार्ज शाफ़्ट हेतु आवेदन कर पाएंगे।

विभागीय लॉगिन कैसे करें?

विभागीय लॉगिन करने के लिए आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। जिसके बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा। होम पेज पर आपको विभागीय लॉगिन के ऑप्शन पर क्लिक करना है। क्लिक करने के पश्चात आपके सामने नया पेज खुल जायेगा। नए पेज पर आपको यूज़र नेम, पासवर्ड और कैप्चा कोड को भरना है। अब आपको लॉगिन पर क्लिक कर देना है। क्लिक करने के बाद आपकी लॉगिन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। mera pani meri virasat login process

मेरा पानी मेरी विरासत योजना से जुड़े प्रश्न/उत्तर

मेरा पानी मेरी विरासत योजना क्या है?

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा राज्य की सरकार द्वारा शुरू की गयी है। योजना का मुख्य उद्देश्य पानी का सरंक्षण करना। सरकार किसानों को धान की खेती छोड़ के अन्य विकल्पित फसल (अल्टरनेटिव फसल) के उत्पादन के लिए 7 हजार प्रति एकड़ की राशि किसान भाइयों को प्रदान करेगी।

Mera Pani Meri Virasat Yojana की आधिकारिक वेबसाइट क्या है?

मेरा पानी मेरी विरासत योजना http://117.240.196.237/ & fasal.haryana.gov.in है। आवेदक योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण कर सकते है।

Mera Pani Meri Virasat Yojana से सम्बंधित हेल्पलाइन नंबर क्या है?

यदि आप को योजना से जुडी किसी भी प्रकार की जानकारी जाननी है या इससे जुड़े सवालों के जवाब जानने होंगे तो आप दिए गए हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क करके अपनी समस्या का हल जान सकते है, इसके अलावा आप दी गयी ईमेल ID पर भी ईमेल भेज सकते है।
हेल्पलाइन नंबर: 18001802117
किसान कॉल सेंटर: 18001801551
टेलीफोन नंबर: 0172-2571553, 2571544
फैक्स: 0172-2563242
ईमेल id : [email protected],agri[email protected], [email protected]
पता: एग्रीकल्चर एंड फार्मर वेलफेयर डिपार्टमेंट, कृषि भवन, सेक्टर: 21, पंचकुला

Mera Pani Meri Virasat Yojana की आवेदन प्रक्रिया क्या होगी?

योजना कि आवेदन प्रक्रिया सरकार ने ऑनलाइन मोड द्वारा रखी है। आवेदक कही से भी अपने मोबाइल व कंप्यूटर के माध्यम से योजना का आवेदन कर सकते है और इससे मिलने वाले लाभों को प्राप्त कर सकते है।

मेरा पानी मेरी विरासत योजना से जुड़े आवश्यक दस्तावेज क्या होंगे?

योजना से जुड़े आवश्यक दस्तावेज जानने के लिए आपको ऊपर दिए गए आर्टिकल को पढ़ना होगा। हमने योजना से सम्बंधित सभी जानकारी को अपने आर्टिकल में बता दिया है।

स्कीम के तहत किसानों को कितने रुपये की प्रोत्साहन राशि सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी?

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत किसान भाइयों को धन के बजाय अन्य खेती के लिए 7 हजार रुपये की वित्तीय राशि प्रदान की जाएगी।

हमने आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना से जुडी सभी जानकारी विस्तारपूर्वक बता दी है अगर आपको से सम्बंधित जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमे मैसेज करके बता सकते है और यदि आपको इससे सम्बंधित कोई भी सवाल पूछने है तो आप हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते है हम आपके सभी सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे।

Leave a Comment