UP Bijli Sakhi Yojana: महिलायें घर बैठे कमा रही हैं 8 से 10 हजार रुपये हर महीने, जाने कैसे

UP Bijli Sakhi Yojana: देश में महिलाओं को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से बहुत सी योजनाओं का शुभारम्भ किया जाता है। इन योजनाओं की कड़ी में एक और योजना जुड़ गयी है। जिसका नाम है UP Bijli Sakhi Yojana, ये योजना राज्य आजीविका मिशन के तहत शुरू की गयी है। बता दें की ये उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा महिलाओं को ध्यान में रखकर शुरू की गयी है। इस योजना (UP Bijli Sakhi Yojana) के माध्यम से राज्य सरकार महिलाओं को रोजगार प्रदान करने के साथ उन्हें आर्थिक ही नहीं सामाजिक तौर पर भी सशक्त कर रही है। इस योजना से महिलाएं घर बैठे ही 8 से 10 हजार रूपए प्रति माह कमा सकती हैं।

UP Bijli Sakhi Yojana

UP Bijli Sakhi Yojana

उत्तर प्रदेश बिजली सखी योजना में ग्रामीण महिलाओं को रोजगार मिलेगा। उन्हें ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर घर घर से बिजली के बिल का संग्रह कर रही हैं। बता दें की ये सभी महिलाएं स्वयं सहायता समूह से जुडी महिलाएं होंगी जो कि राज्य आजीविका मिशन के तहत इस योजना से जुडी हैं। इनका कार्य ग्रामीणों की सहायता करना होगा। ये बिजली के बिल की मीटर रीडिंग और बिल के भुगतान का संग्रह करने का कार्य करेंगी। इससे उन्हें आय भी प्राप्त हो जाएगी।

घर बैठे मिलेंगे 8 से 10 हजार रुपये हर महीने

उत्तर प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में महिलाओं की स्थिति को सुधारने के लिए ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत UP Bijli Sakhi Yojana की शुरुआत की। ग्रामीण आजीविका मिशन के निदेशक ने कहा की ग्रामीण महिलाएं इस योजना में आर्थिक और सामाजिक तौर पर सशक्त हो रही है। इस योजना के माध्यम से सरकार की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने की पहल सफल होती दिख रही है। इससे महिलाएं स्वयं सहायता समूह से जुड़कर अपने कार्य से अतिरिक्त कमाई का जरिया प्राप्त कर सकती हैं। निदेशक ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के अनुसार Uttar Pradesh Power Corporation Limited ने यूपी के सभी जिलों में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे जिस से स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) को नागरिकों से बिजली के बिल का भुगतान जमा करने की अनुमति मिल सके।

यूपी बिजली सखी योजना

ग्रामीण आजीविका योजना के तहत यूपी बिजली सखी योजना काफी प्रभावशाली है। इस बात का अंदाज़ा आप इसी बात से लगा सकते हैं की बिजली सखी के रूप में  5,395 सक्रिय सदस्यों ने अभी तक 62.50 करोड़ रुपये के बिजली के बिल के भुगतान का संग्रह किया है। ये अपने आप में एक मिसाल है। उत्तर प्रदेश में यूपी बिजली सखी योजना ने लाखों ग्रामीण महिलाओं की ज़िन्दगी को बेहतर बनाया है। न सिर्फ उनकी आर्थिक और सामाजिक स्थिति सुधरी बल्कि अब वो अपने साथ साथ परिवार के खर्चे भी आसानी से उठ रही हैं। बता दें की सभी महिलाएं बिजली सखी के रूप में कार्य करके हर महीने 8000 रूपए से लेकर 10 हजार रूपए तक की कमाई कर रही हैं।

बताते चलें की वर्तमान में उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में बिजली बिल संग्रहण हेतु एक एजेंसी के रूप में यूपीपीसीएल के पोर्टल पर 73 क्लस्टर स्तरीय संघों को रजिस्टर किया है। इसके लिए कुल 15310 महिला स्वयं सहायता समूह सदस्यों का चयन किया गया है। बता दें की इन में से 5395 सक्रिय सदस्यों ने 62.50 करोड़ रुपये के बिल संग्रह किया है। इस माध्यम से अभी तक महिला स्वयं सहायता समूहों के सदस्यों को कुल 90.74 लाख रुपये का कमीशन मिला है।

यह भी पढ़ें:-

Leave a Comment