एक साथ ले सकेंगे अब दो डिग्री, UGC ने किया नियमों में बदलाव, जाने पूरी खबर क्या है

Two Degree Programme : मंगलवार को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) द्वारा नई घोषणा की गयी है। यूजीसी ने अपनी घोषणा में बताया की अब से सभी विद्यार्थी एक साथ ही दो फुल टाइम डिग्री कोर्स में दाखिला ले सकेंगे। साथ ही दोनों डिग्री कोर्सेज में छात्र फिजिकल मोड में ही पढाई कर सकेंगे। साथ ही यूजीसी और अन्य उच्च शिक्षा नियामकों (higher education regulator ) द्वारा इन दोनों ही कोर्सेज (Two Degree Programme) को समान मान्यता प्राप्त होगी। UGC Chairman प्रोफेसर एम जगदीश कुमार ने बताया की ये बदलाव नयी एजुकेशन पालिसी – 2020 के अनुसार किया गया है।

यूजीसी ने नियमों में किये बदलाव

यूजीसी ने हाल ही में कुछ नियमों में बदलाव किया है। इस संबंध में आयोग द्वारा नयी शिक्षा के अनुरूप विद्यार्थियों को अपने पसंद के अनुसार पढ़ने के लिए ज्यादा से ज्यादा आज़ादी देने की बात की है। बता दें इसके लिए आयोग ने दिशा निर्देशों का एक सेट तैयार किया गया है। इन दिशा निर्देशों का सेट 13 अप्रैल को आयोग की आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड कर दिया जाएगा। जिसे सभी संबंधित जानकारी को देख सकेंगे। बता दें की इस से पूर्व विद्यार्थियों को एक साथ दो पूर्णकालिक कोर्सेज में एडमिशन लेने की अनुमति नहीं प्रदान की गयी थी।

Crossword Contest 2022: एआईसीटीई, यूजीसी की क्रॉसवर्ड प्रतियोगिता

यूजीसी अध्यक्ष द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार ये नियम व्याख्यान आधारित पाठ्यक्रमों (लेक्चर बेस्ड पाठ्यक्रमों) के लिए लागू होगी।  जिनमें स्नातक, स्नातकोत्तर और डिप्लोमा कार्यक्रमों को शामिल किया गया है। हालाँकि जानकारी के लिए बता दें की नये नियमों के अनुसार एमफिल और पीएचडी को इस योजना से बाहर रखा गया है। सभी विश्वविद्यालयों को इसे अपने स्तर पर शुरू करने के लिए सिर्फ यूजीसी और अन्य नियामकों को सूचना देनी होगी। हालाँकि ये पूरी तरह विश्वविद्यालय पर निर्भर करेगा की वो इसे शुरू करना चाहते है या नहीं।

Two Degree Programme : दो डिग्री प्रोग्राम को जारी रख सकेंगे छात्र

नए नियमों के अनुसार अब से देश में सभी छात्रों को एक साथ दो डिग्री पाठ्यक्रमों में प्रवेश ले सकता है। हालाँकि उन्हें इस बात का ध्यान रखना होगा कि दोनों ही पाठ्यक्रमों की क्लास एक ही समय पर न चल रही हो। आप को बता दें की विद्यार्थी एक डिप्लोमा कार्यक्रम और एक स्नातक (यूजी) डिग्री, या दो मास्टर कार्यक्रम, या फिर दो स्नातक कार्यक्रमों के संयोजन का चयन कर सकते हैं। यदि कोई छात्र स्नातकोत्तर (यूजी) की डिग्री हासिल करने के लिए पात्र है और एक अलग डोमेन में स्नातक की डिग्री में दाखिला लेना चाहता है, तो वह एक साथ यूजी और पीजी डिग्री हासिल कर सकेंगे लेकिन इसकी क्लास के समय में अंतर होना आवश्यक होगा।

Leave a Comment