SBI Overdraft Facility: खाते में बैलेंस से भी ज्यादा पैसे दे देगा बैंक, जानें कैसे होगा संभव

SBI Overdraft Facility: भारतीय स्टेट बैंक के माध्यम से अपने ग्राहकों को ओवरड्राफ्ट देने की सुविधा उपलब्ध की गयी है। इस सुविधा के आधार पर ग्राहक खाते में उपलब्ध राशि के अनुसार अधिक राशि निकाल सकते है। यदि आपका स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में अकाउंट है और आपको खाते में मौजूद राशि से अधिक राशि का ट्रांसक्शन करना है तो आप इस सुविधा का लाभ ले सकते है। आइये जानते है की ओवर ड्राफ्ट की सुविधा का लाभ कैसे ले सकते है।

Overdraft facility क्या है?

ओवरड्राफ्ट सुविधा एक प्रकार की ऋण सुविधा है जिसमे ग्राहकों को जरूरत के समय में खाते में पर्याप्त राशि से अधिक राशि लेने की सुविधा उपलब्ध की जाती है। ओवरड्राफ्ट के माध्यम से ली गयी इस राशि को व्यक्ति के द्वारा एक निश्चित समय अवधि में लौटना होता है। ओवरड्राफ्ट के माध्यम से ली गयी राशि का व्यक्ति को ब्याज राशि का भुगतान भी करना होता है। इस राशि में ब्याज राशि को प्रतिदिन के अनुसार काउंट किया जायेगा।

ओवरड्राफ्ट लेने की सुविधा बैंक या गैर बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) के माध्यम से ग्राहकों को प्रदान की जाती है। इसके साथ ही बैंको के माध्यम से या कम्पनी के माध्यम से दिए जाने वाली ओवरड्राफ्ट की समय सीमा खुद ही तय की जाएगी। निर्धारित की समय अवधि में व्यक्तियों को इस राशि का भुगतान करना होता है।

खाते में बैलेंस से भी ज्यादा पैसे दे देगा बैंक, जानें कैसे होगा संभव

ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी लेने के लिए ग्राहकों को बैंक या वित्तीय कंपनियों के माध्यम से मंजूरी लेनी होगी। मंजूरी लेने के लिए या तो व्यक्ति को ऑनलाइन के तहत अर्जी देने होगी या फिर लिखित रूप में अर्जी देनी होगी। कुछ बैंको के माध्यम से ग्राहकों को ओवरड्राफ्ट की सुविधा हेतु प्रोसेसिंग फीस भी ली जाती है।

दो प्रकार की ओवर ड्राफ्ट लेने की सुविधा ग्राहकों को प्रदान की जाती है एक है सुरक्षित ,और दूसरी है असुरक्षित सुरक्षित ओवरड्राफ्ट की सुविधा लेने हेतु ग्राहकों को अपनी कुछ कीमती चीजे गिरवी रखनी होती है। जैसे सैलरी ,बीमा पॉलिसी ,बॉन्ड्स ,एफडी ,शेयर्स ,घर आदि। इस प्रक्रिया को सरल भाषा में शेयर्स एफडी में ऋण लेना भी कहते है। यदि आपके पास गिरवी रखने के लिए किसी भी प्रकार की कोई कीमती चीजे उपलब्ध नहीं तो तब भी व्यक्ति के माध्यम से ओवरड्राफ्ट की सुविधा प्राप्त की जा सकती है। अनसिक्योर्ड ओवरड्राफ्ट के माध्यम से व्यक्ति Overdraft facility का लाभ ले सकते है।

ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी से लाभ

Overdraft facility के माध्यम से यदि व्यक्ति के द्वारा समय से पहले अतिरिक्त राशि का भुगतान किया जाता है तो उन्हें केवल उतने दिन की ही ब्याज राशि का भुगतान इस प्रक्रिया के अंतर्गत करना होगा ,जितना समय ओवरड्राफ्ट लिए हुए हुआ है। यदि कोई ऋण लेता है और उसके द्वारा ऋण राशि का भुगतान समय से पहले किया जाता है तो उन्हें प्रीपेमेंट शुल्क राशि भी देनी होती है। लेकिन ओवरड्राफ्ट के माध्यम से ग्राहकों को यह ख़ास सुविधा प्रदान की जाती है। तय की गयी समय सीमा में व्यक्ति कभी भी पैसो का भुगतान कर सकते है। यह बैंको से ऋण लेने की प्रक्रिया से अधिक लाभकारी है।

खुशखबरी! फिर से शुरू हुई गैस सिलेंडर की सब्सिडी, तुरंत चेक करें अपना बैलेंस

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें ।

Leave a Comment