RBI Monetary Policy: ब्याज दरों में बदलाव नहीं, FY23 में 5.7% महंगाई का अनुमान

RBI Monetary Policy– 6 अप्रैल को भारतीय रिजर्व बैंक की मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी की बैठक शुरू की गयी थी। इस बैठक में रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के माध्यम से रेपो रेट को लेकर एक बड़ा ऐलान किया गया है। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने 7 अप्रैल को मॉनिटरी पॉलिसी का ऐलान किया है। एमपीसी ने पॉलिसी दरों में कोई बदलाव नहीं किया है। 4 प्रतिशत की दर से रेपो रेट बरकरार है। यह लगभग 11 वीं बार हो चुका है जब केंद्रीय बैंक ने ब्याज दरों में किसी प्रकार का कोई बदलाव नहीं किया है। आखिरी बार इससे पहले 22 मई 2020 को रेपो रेट में परिवर्तन किया गया था।

RBI Monetary Policy

वित्त वर्ष 2023 के लिए जीडीपी ग्रोथ रेट के अनुमान को भारतीय रिजर्व बैंक ने अपनी मॉनिटरी पॉलिसी के ऐलान में गिराया है। रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया गवर्नर शक्तिकांत दास ने मॉनिटरी पॉलिसी की बैठक के बाद बताया की FY23 के जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 7.8 प्रतिशत से घटाकर 7.2 प्रतिशत किया गया है। इसके साथ ही 5.7 प्रतिशत तक उन्होंने महंगाई दर का अनुमान भी लगाया है।

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कही ये बात

RBI गवर्नर शक्तिकांत दास जी ने मॉनिटरी पॉलिसी की बैठक में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी की FY23 की दूसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 7 प्रतिशत से घटाकर 6.2 प्रतिशत किया गया।

इसी के साथ FY23 की तीसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को 4.3 प्रतिशत से कम करके 4.1 प्रतिशत किया गया। FY23 की चौथी तिमाही में GDP ग्रोथ के अनुमान को 4.5 फीसदी से घटाकर 4 प्रतिशत किया गया है।

ग्रोथ की दरे RBI Monetary Policy

नीतिगत दरों को मॉनिटरी पॉलिसी में अपने स्थान पर रखने के लिए आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष में देश की आर्थिक वृद्धि दर अनुमान को कम किया है। यह पहली तिमाही में 16.2 प्रतिशत दूसरी तिमाही में 6.2 प्रतिशत और तीसरी तिमाही में 4.1 प्रतिशत रही है। इसी के साथ चौथी तिमाही में यह दर 4 प्रतिशत रह सकती है। 2022-23 में देश की आर्थिक वृद्धि दर 7.2 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

महंगाई में वृद्धि

सेंट्रल बैंक ने चालू वित्त वर्ष में महंगाई के भी अधिक रहने का अनुमान जताया है वित्त वर्ष 2022-23 में इसके 5.7 प्रतिशत पर रहने का अनुमान है। पहली तिमाही में महंगाई दर 6.3 प्रतिशत ,दूसरी तिमाही में महंगाई दर 5 प्रतिशत ,तीसरी तिमाही में 5.4 प्रतिशत ,और चौथी तिमाही में 5.1 प्रतिशत रहने वाली है।

Leave a Comment