खुशखबरी! अब दोगुनी होगी पेंशन! हट जाएगी 15000 रु की लिमिट, Pension Scheme New Update

Pension Scheme New Update: जल्द ही EPS (Employee Pension Scheme ) के अंतर्गत निवेश पर लगी लिमिट के हटने की उम्मीद है। इस मसले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में आजकल सुनवाई चल रही है। जिससे सभी ईपीएस के तहत पंजीकृत सभी कर्मचारियों को कोर्ट के फैसले का इंतज़ार है। उन्हें उम्मीद है की कोर्ट का फैसला उनके हक़ में होगा। और इसका उन्हें लाभ मिलेगा। आइये जानते हैं क्या है पूरा मामला –

Pension Scheme New Update limit
Pension Scheme New Update

Pension Scheme New Update: हटने वाली है 15000 रु की लिमिट

जैसा की हमने अभी बताया की EPS (Employee Pension Scheme) के तहत पेंशन पर 15000 (15 हजार रूपए ) की लिमिट लगी है। जिसे हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में केस चल रहा है। दरअसल मामला ये है की EPS में पंजीकृत कर्मचारियों की पेंशन से संबंधित कुछ नियम हैं जैसे की अधिकतम पेंशन योग्य वेतन 15000 रूपए प्रति माह तक सीमित होती है। जिसका अर्थ हुआ की कर्मचारी की सैलरी जितनी भी रही हो उसका पेंशन का निर्धारण 15000 रूपए के आधार पर ही होगा और इसी सीमा (15000 रूपए की लिमिट ) को हटाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में केस चल रहा है।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा भारत संघ और कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की तरफ से दायर किये गए याचिकाओं की सुनवाई के बैच को 12 अगस्त को स्थगित कर दिया गया था। इन याचिकाओं में कहा गया था की कर्मचारियों की पेंशन को 15 हजार रूपए तक सीमित नहीं किया जा सकता। इस मामले पर 17 अगस्त से ही सुनवाई जारी है।

वर्तमान में EPS (Employee Pension Scheme )संबंधित नियम

जब कोई कर्मचारी नौकरी करने लगता है तो वो EPF का सदस्य बन जाता है और साथ ही EPS की भी मेम्बरशिप उसे मिलती है। कर्मचारी द्वार EPF में सैलरी का 12 प्रतिशत हिस्सा जमा किया जाता है और इतना ही कंपनी द्वारा भी अपनी ओर से डाला जाता है। इसके अतिरिक्त 8.33 प्रतिशत सैलरी का हिस्सा EPS में भी जाता है। जैसे की पेंशन के लिए अधिकतम पेंशन योग्य वेतन 15000 रूपए ही है , जिसका अर्थ हुआ की पेंशन का अधिकतम हिस्सा 1250 रूपए ही हुआ। इसके बाद कर्मचारी के रिटायर होने पर उसकी पेंशन की गणना का आधार 15000 रूपए है जिसके हिसाब से उसकी पेंशन 7500 रूपए प्रतिमाह ही बनती है। आइये अब समझते हैं की कर्मचारी की पेंशन की गणना कैसे होती है ?-

Pension Scheme New Update

Employee Pension Scheme: पेंशन की गणना ऐसे होती है

यदि कोई कर्मचारी EPS में योगदान करने की शुरुआत 1 सितम्बर 2014 से पहले शुरू करता है तो उसके पेंशन के लिए योगदान हेतु महीने की सैलरी की अधिकतम सीमा 6500 रूपए ही होगी। वहीँ अगर उस कर्मचारी ने 1 सितम्बर 2014 के बाद ईपीएस में योगदान की शुरुआत की है तो उसकी सैलरी की अधिकतम सीमा 15 हजार रूपए होगी। आइये अब जानते हैं की पेंशन की गणना कैसे की जाती है ?

EPS Calculation Formulae :

मंथली पेंशन= (पेंशन योग्य सैलरी x EPS योगदान के साल)/70

यहाँ हम ये मान लेते हैं की कर्मचारी ने 1 सितम्बर 2014 के बाद योगदान शुरू किया है। इस आधार पर पेंशन योगदान 15000 रूपए पर आधारित होगी। और कर्मसहारी ने 30 वर्ष नौकरी की है तो उस हिसाब से –

मंथली पेंशन = 15,000 X 30 / 7 = 6428 रूपए

अधिकतम और न्यूनतम पेंशन संबंधित तथ्य

आप की जानकारी के लिए बता दें की यदि कर्मचारी की कर्मचारी की 6 माह या इस से जयदा की सर्विस को 1 साल माना जाएगा। वहीँ यदि इस अवधी से भी कम हुआ तो उसे नहीं गिना जाएगा। जैसे की यदि किसी कर्मचारी ने 12 वर्ष और 7 माह कार्य किया है तो ये अवधि 13 वर्ष मानी जाएगी। वहीँ अगर उस कर्मचारी ने 12 वर्ष और 5 माह कार्य किया है तो इसकी गिनती सिर्फ 12 वर्ष ही मानी जाएगी। Pension Scheme के तहत मिनिमम पेंशन राशि 1000 रूपए की है जबकि अधिकतम पेंशन राशि 7500 रूपए की होती है।

यह भी पढ़े:

National Pension Scheme: अब बिना जॉब के मिल सकती है पेंशन, जानें कैसे

SBI Life Saral Pension Scheme: सरल पेंशन प्लान से बनायें अपने रिटायरमेंट को बेहतर, ऐसे करें आवेदन

National Pension Scheme: अब रोज 400 रुपये की बचत पर 1.78 लाख रुपये हर महीनें मिल सकते हैं, जानें कैसे

EPS की फुल फॉर्म क्या है ?

EPS की फुल फॉर्म Employee Pension Scheme है।

EPS में पंजीकृत कर्मचारियों की पेंशन अधिकतम पेंशन योग्य वेतन कितना है ?

अधिकतम पेंशन योग्य वेतन 15000 रूपए प्रति माह है।

Employee Pension Scheme कब शुरू हुई ?

EPS 1 सितम्बर 2014 को शुरू हुई थी।

EPS Calculation Formulae क्या है ?

मंथली पेंशन= (पेंशन योग्य सैलरी x EPS योगदान के साल)/70

Leave a Comment