Pashudhan Bima Yojana: पशुओं की अचानक मृत्यु होने पर सरकार देगी पैसे, पढ़े पूरी जानकारी

Pashudhan Bima Yojana: केंद्र सरकार द्वारा किसानों के हित में बहुत सी योजनाएं चलाई जाती हैं। इन सभी योजनाओं का ध्येय किसानों की आय को बढ़ाना और उनकी कृषि संबंधी जरूरतों को पूरी करने के लिए सहायता प्रदान करना है। किसानों के पास आय का मुख्य स्रोत खेती और उनके पशु ही होते हैं। कृषि से संबंधित किसानों के लिए सरकार द्वारा बहुत सी योजनाएं हैं जिसके माध्यम से उन्हें कृषि में होने वाले नुक्सान की भरपाई में मदद मिलती है। लेकिन ये सुविधा पहले पशुओं से संबंधित नुक्सान होने पर नहीं थी। ऐसे में किसी किसान के पशु की अचानक मौत होने पर कोई मुआवज़ा नहीं मिलता था। लेकिन अब सरकार ने इस बात का ध्यान रखते हुए Pashudhan Bima Yojana की शुरुआत की है। जिससे सभी किसानों को उनके पशुधन की हानि होने पर आर्थिक सहायता दी जाएगी।

Pashudhan Bima Yojana: पशुओं की अचानक मृत्यु होने पर सरकार देगी पैसे, पढ़े पूरी जानकारी
Pashudhan Bima Yojana: पशुओं की अचानक मृत्यु होने पर सरकार देगी पैसे, पढ़े पूरी जानकारी

Pashudhan Bima Yojana क्यों ख़ास है ?

पशुधन बीमा योजना के माध्यम से सरकार सभी किसानों के पशुओं का बीमा कराएगी। इस योजना के तहत किसानों को पशुधन के माध्यम से भी अपनी आय बढ़ाने का अवसर मिलेगा। Pashudhan Bima Yojana में जिन भी पशुओं का बीमा किया जाएगा , उनकी मृत्यु होने पर सभी किसानों को मुआवज़ा दिया जाएगा। सभी जानवरों के लिए अलग अलग धनराशि का प्रावधान किया गया है। जिसके अनुसार ही उस पशु की मृत्यु पर बीमा कंपनी द्वारा बीमा की राशि प्रदान की जाएगी । आप की जानकारी के लिए बता दें की पशुओं का बीमा 3 सालों के लिए होगा। जिसकी प्रीमियम की धनराशि का 50 प्रतिशत हिस्सा सरकार द्वारा बीमा कंपनी को अनुदान के तौर पर दिया जाएगा। शेष बीमा की प्रीमियम राशि पशुपालकों द्वारा अंशदान के रूप में भरी जाएगी।

पशुओं की अचानक मृत्यु होने पर सरकार देगी पैसे

यदि किसी किसान के बीमित पशु की मृत्यु होती है तो ऐसे में सरकार उन पशुओं की मृत्यु का मुआवज़ा देती है। जैसे की किसी पशुपालक की गाय या भैंस की मृत्यु होती है तो उस पर उन्हें बीमित राशि का पैसा मिल जाता है। जिसका प्रीमियम का 50 प्रतिशत सरकार द्वारा भरा जाता है और पशुपालक को बाकी का हिस्सा भरना होता है। आप की जानकारी के लिए बता दें की इस योजना में प्रीमियम राशि अलग अलग राज्यों में अलग अलग हो सकती है। कहीं कहीं इस की प्रीमियम राशि केंद्र और राज्य सरकार दोनों मिलकर भरते हैं। इस योजना (Pashudhan Bima Yojana ) में आवेदक किसान अपने दो पशुओं का एक साथ बीमा करवा सकते हैं। आप को बताते चलें की इस योजना में दुधारू पशुओं का बीमा कीमत उनके बाज़ार मूल्य के अनुसार किया जाता है।

कैसे होता है पशुओं का बीमा , यहाँ जानें

सके लिए सबसे पहले जो भी पशुपालक अपने पशुओं का बीमा करवाना चाहते हैं उन्हें अपने नज़दीकी पशु अस्पताल में जाकर इसके बारे में जानकारी देनी होगी। इसके बाद पशु चिकित्सक और बीमा एजेंट किसान के घर आकर पशु के स्वास्थ्य की जांच करेंगे। जांच के बाद पशु का स्वास्थय प्रमाण पत्र जारी होता है। बीमा एजेंट इसके बाद पशु के कान में टैग लगाएगा और उसके बाद पशु के साथ किसान की फोटो ली जाती है। और फिर इसके बाद बीमा पालिसी दे दी जाती है।

पशुओं के बीमा हो जाने के बाद किसानों को कुछ बातों का ख्याल रखना होता है। जैसे की पशुओं के कान में लगा टैग खोने की स्थिति में उन्हें तुरंत इस बारे में बीमा कंपनी को सूचित करना होगा ताकि कंपनी नया टैग लगा सके। साथ ही पशु के खोने पर भी सूचित करना होगा।

खुशखबरी! फिर से शुरू हुई गैस सिलेंडर की सब्सिडी, तुरंत चेक करें अपना बैलेंस

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें ।

Leave a Comment