New Wage Code Impact: कर्मचारियों के भत्तों में सरकार करेगी कटौती! ज्यादा सैलरी वालों को ज्यादा टैक्स देना पड़ सकता है

New Wage Code Impact: जल्द ही नया वेतन कोड लागू किया जा सकता है। आप की जानकारी के लिए बता दें की नए वित्तीय वर्ष से नए वेज कोड लागू हो सकते हैं। इस सम्बन्ध में सभी ड्राफ्ट रूल्स तैयार हो चुके हैं। ऐसा कहा जा रहा है की सरकार अप्रैल 2022 के बाद इसे कभी भी लागू कर सकती है। जिस के बाद कर्मचारियों की सैलरी, भत्ते, पीएफ आदि में बहुत कुछ बदल जाएगा। आइये अब यहाँ समझते हैं New Wage Code Impact के बारे में। आखिर क्या क्या बदल जाएगा नए वेतन कोड लागू होने पर ?

New Wage Code Impact: कर्मचारियों के भत्तों में सरकार करेगी कटौती! ज्यादा सैलरी वालों को ज्यादा टैक्स देना पड़ सकता है

New Wage Code Impact

मीडिया में आ रही ख़बरों के मुताबिक अप्रैल 2022 के बाद सरकार कभी भी नए वेतन कोड (New Wage Code) को लागू कर सकती है। जिसके बाद सभी कर्मचारियों की सैलरी, भत्तों आदि पर बहुत प्रभाव पड़ेगा। जैसे की – आप को मिलने वाली हर महीने की पूरी सैलरी के बेसिक का 50 फ़ीसदी हिस्सा ही आप को मिलेगा। कुल CTC में बेसिक मूल वेतन , महंगाई भत्ता और रेटिनिंग अलाउंस आता है। इन सभी को जोड़कर मिलने वाले कुल वेतन का 50 प्रतिशत होगा। इस के अतिरिक्त New Wage Code में अन्य मिलने वाले भत्ते , NPS आदि पर भी फर्क पड़ेगा। साथ ही कर्मचारियों को मिलने वाली छुट्टियां भी 240 से बढ़ाकर 300 करने का प्रावधान रखा गया है । इन सभी पर आगे लेख में चर्चा करेंगे।

New Wage Code Update: अब हफ्ते में सिर्फ 4 दिन ही जाना होगा ऑफिस, 3 दिन मिलेगी छुट्टी; जानिए कब से लागू होंगे नए नियम

New Wage Code Impact: कर्मचारियों के भत्तों में सरकार करेगी कटौती!

New Wage Code के अनुसार मूल वेतन सीटीसी के 50 प्रतिशत से कम नहीं हो सकता है। बात करें इस समय की तो वर्तमान में ये Gross Salary से लगभग 30 से 40 प्रतिशत के आस पास है।  बाकी एचआरए (HRA ), टेलीफोन शुल्क, समाचार पत्र आदि जैसे भत्तों द्वारा कवर किया जाता है. लेकिन अब अगर नया वेतन कोड लागू होता है तो इसमें मूल वेतन बढ़ जाएगा ,तो सीधी सी बात है कि भत्ते कम हो जाएंगे।

ज्यादा सैलरी वालों को ज्यादा टैक्स देना पड़ सकता है

पहले के वेतन कोड में मासिक आय पर 50 फ़ीसदी सैलरी कंपोनेंट की अनिवार्यता नहीं होने की वजह से टैक्स बचाने के लिए अलग-अलग तरह के भत्तों के माध्यम से ज्यादा पैसे दिए जाते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं है , देखा जाए तो अब भत्तों का हिंसा मात्र 25 से 30 प्रतिशत तक सिमट चूका है जिससे अब वेतन के बाकी भाग पर टैक्स का भुगतान बढ़ जाएगा। आप को बताते चलें कि बेसिक सैलरी, स्पेशल अलाउंस, बोनस आदि पूरी तरह टैक्सेबल हैं। साथ ही HRA के कुछ हिस्से पर टैक्स लग सकता है। ये अलग बात है की टैक्स के भुगतान की राशि में मामूली बढ़ोतरी ही होगी।

New Wage Code में पीएफ अंशदान बढ़ेगा और टेक होम सैलरी होगी कम

आप को बता दें की नए वेतन कोड के लागू होने से पीएफ का अंशदान भी बढ़ेगा। जैसे की आप जानते होंगे की पीएफ में अंशदान का निर्धारण वेतन के अनुसार होता है , जोकि नए कोड के लागू होने पर बढ़ जाएगी। इस का सीधा प्रभाव अंशदान की धनराशि पर पड़ेगा। इससे पीएफ में जाने वाला अंशदान पहले की अपेक्षा ज्यादा होगा। इस से आप की सेविंग बढ़ेगी और भविष्य सुरक्षित होगा। हालाँकि बतात चलें की आप की टेक होम सैलरी में कमी आ सकती हैं।

7th Pay Commission: बड़ी खबर! केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते का फैसला टला? वित्त मंत्रालय का आदेश जारी

New Wage Code Impact in hindi

Leave a Comment