ओमिक्रॉन से कितना खतरनाक है कोरोना का नया IHU वैरिएंट, जानें यें बड़ी बातें

कोरोना IHU न्यू वेरिएंट अपडेट: देशभर में कोरोना की तीसरी लहर के नए वैरिएंट ओमीक्रॉन के बढ़ते से अभी तक लोगों को राहत नहीं मिल सकी है, की अब इसके नए वैरिएंट के सामने आने की खबरे तेजी से फैल रही है। इस नए स्ट्रेन को वैरिएंट को वैज्ञानिकों द्वारा IHU या B.1.640.2 नाम दिया गया है। इस नए वेरिएंट को कोरोना के पुराने वैरिएंट से अधिक खतरनाक माना जा रहा है, जिसके नए वेरिनेट का नया मामला 10 दिसंबर को सबसे पहले फ्रांस में देखने को मिला है और अभी तक फ्रांस में इसके 12 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं।

new IHU corona variant is more infectious than omicron variant
new IHU corona variant is more infectious than omicron variant

भारत में अभी वैज्ञानिक कोरोना के वैरिएंट ओमीक्रॉन पर इसके व्यवहार, प्रकृति और संक्रमण पर अभी शोध कर रहें हैं, जिसके बाद से इसके नए वैरिएंट के सामने आने पर इसे ओमीक्रॉन से खतरनाक माना जा रहा है, लेकिन इस पर कोई शोध नहीं होने पर नतीजे सामने ना आने के चलते WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) द्वारा इसके संक्रमण के प्रभाव को लेकर कोई पुष्ठी जारी नहीं की गई है। इस नए वैरिएंट का नागरिकों पर क्या प्रभाव पडेगा, इसकी जानकारी वह इस लेख के माध्यम से जान सकेंगे।

ओमिक्रॉन से कितना खतरनाक है कोरोना का नया IHU वैरिएंट

new IHU corona variant is more infectious than omicron variant
New IHU corona variant is more infectious than omicron variant

दुनियाभर में कोरोना के नए-नए स्ट्रेन सामने आने से 2 साल से कई देशों में लोग इसके संक्रमण से प्रभावित हुए हैं, ऐसे में कोरोना के अल्फ़ा, बेटा, कप्पा जैसे तेजी से संक्रमित होने वाले स्ट्रेन के बाद ओमीक्रॉन में 32 म्यूटेशन पाए जाने के चलते इसका संक्रमण के अधिक तेजी से फैलने के चलते देश में इसके केसेस अधिक बढ़ते हुए दिखे हैं लेकिन यदि बात करें कोरोना के नए स्ट्रेन IHU की तो इसमें अभी तक 46 म्यूटेशन पाए गए हैं। इस नए वैरिएंट की खोज दि मैडिटेरेनी इन्फेक्शन युनिवेर्सिटी ऑफ़ हॉस्पिटल इंस्टिट्यूट के शोधकर्ताओं द्वारा की गई है, लेकिन WHO की जाँच के दायरे में अभी तक ना आने के चलते अभी इस वैरिएंट के ओमीक्रॉन से अधिक तेजी से फैलने की बात सामने नहीं आ रही है।

IHU वैरिएंट से जुडी कुछ बातें

कोरोना के इस नए वैरिएंट IHU के सामने आने से अब तक इस पर अधिक शोध नहीं होने के चलते इसके बारे में केवल कुछ बातें सामने आई है जैसे

  • IHU या B.1640.2 वैरिएंट का सबसे पहला मामला फ्रांस में पाया गया है, जिसे अफ्रीका के एक देश कैमरून की यात्रा से जोड़ा जा रहा है जहाँ से ओमीक्रॉन का पता लगाया गया था।
  • कोरोना के इस नए वैरिएंट में 46 म्यूटेशन पाए जाने से इसे ओमीक्रॉन से अधिक खतरनाक माना जा रहा है, यानी इसके संक्रमण की गति को ओमीक्रॉन से धीमी देखी जा रही है।
  • IHU वेरिएंट के मामले अन्य देशों में नहीं देखे जाने से डब्लूएचओं द्वारा इसे महामारी का अधिक घरायक घोषित नहीं किया गया है।
  • कोरोना के नए वैरिएंट के बारे में medRxiv पर पोस्ट किए गए एक पेपर के अनुसार, इसके जिनोम अगली पीढ़ी के अनुक्रमण द्वारा ऑक्सफ़ोर्ड नैनोपोर टेक्नोलॉजी के साथ ग्रिडियन पर प्राप्त किए गए थे, जिसमे उत्परिवर्तन के कारण 14 अमीनो एसिड प्रतिस्थापन और 9 अमीनो एसिड विलोपन हुए है जो स्पाइक प्रोटीन में स्थित है।
  • कोरोना के नए वैरिएंट IHU पार जारी जानकारी के मुताबिक़ इससे संक्रमित मरीजों में रेस्पिरेटरी (यानी साँस) से सम्बंधित हल्के लक्षण देखे जाने की बात सामने आई है।

Covid Booster Vaccine Dose: जानें कब से और किसको लगेगी कोरोना की बूस्टर डोज़

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें ।

Leave a Comment