नाटो में देशों की लिस्ट, जानें कौन है कितना ताकतवर

नाटो में देशों की लिस्ट- नाटो में 30 देश शामिल है जिसमें प्रमुख देश अमेरिका है। नाटो का मुख्य लक्ष्य है सुरक्षा नीति पर काम करना यदि किसी नाटो देश पर कोई अन्य देश हमला करता है तो नाटो में शामिल सभी देश प्रभावित देश के पक्ष में खड़े हो सकते है। NATO का पूरा नाम नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी ऑर्गेनाइजेशन है। इसमें 28 यूरोपियन कंट्री और दो उत्तरी अमेरिका की कंट्री शामिल है। NATO को फ्रेंच में OTAN कहते है जो पूर्ण तरह से नाटो का उल्टा है।

नाटो का मुख्य उद्देश्य राजनितिक एवं सैन्य साधनों के माध्यम से अपने सदस्य देशों को स्वतंत्रता एवं सुरक्षा की गारंटी प्रदान करना है। रक्षा एवं सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर समर्थन के माध्यम से दोनों देशों के बीच हुए संघर्ष को रोकना है। नाटो के किसी भी सदस्य देश पर हुए आक्रमण पर नाटो संगठन के सभी देशो के माध्यम से जवाब दिया जायेगा।

नाटो में देशों की लिस्ट, जानें कौन है कितना ताकतवर
नाटो में देशों की लिस्ट, जानें कौन है कितना ताकतवर

नाटो में देशों की लिस्ट

नाटो कुछ देशों का एक इंटरगवर्नेंट मिलिट्री संगठन है जिसकी स्थापना वर्ष 1949 में यह 28 यूरोपीय देशों एवं दो उत्तरी अमेरिका देशों के बीच में बनाया गया है। आप नीचे दी गयी लिस्ट के आधार पर देख सकते है की NATO में को-कौन से देश शामिल है।

  1. अल्बानिया
  2. बुल्गारिया
  3. बेल्जियम
  4. कनाडा
  5. क्रोएशिया
  6. चेक प्रतिनिधि (Czech Rep)
  7. एस्तोनिया
  8. डेनमार्क
  9. जर्मनी
  10. फ्रांस
  11. हंगरी
  12. आइसलैंड
  13. यूनान
  14. इटली
  15. लातविया
  16. लिथुआनिया
  17. लक्समबर्ग
  18. मोंटेनेग्रो
  19. नीदरलैंड
  20. उत्तर मैसेडोनिया
  21. नॉर्वे
  22. पोलैंड
  23. पुर्तगाल
  24. रोमानिया
  25. स्लोवाकिया
  26. स्लोवेनिया
  27. स्पेन
  28. तुर्की
  29. यूनाइटेड किंगडम
  30. संयुक्त राज्य अमेरिका

नाटो में देशों की लिस्ट, जानें कौन है कितना ताकतवर

NATO में शामिल देशों में सबसे अधिक शक्तिशाली देश संयुक्त राज्य अमेरिका है। सैन्य शक्ति के मामले में अमेरिका सबसे ज्यादा ताकतवर देश है। अमेरिका के बाद सबसे अधिक सैन्य शक्ति रूस के पास मौजूद है।

Russia-Ukraine war में सैन्य शक्ति के मामले में यूक्रेन रसिया से काफी पिछे है। अमेरिका के बाद रसिया सैन्य शक्ति के मामले में दूसरे नंबर पर है। इसी के साथ यूक्रेन सैन्य शक्ति के मामले में 22वें स्थान पर है। रसिया यूक्रेन वॉर में रसिया के पास 8 लाख सैनिकों की फौज है जबकि यूक्रेन के पास कुल 2.50 लाख सैनिकों की फौज है।

NATO की फंडिंग

नाटो की फंडिंग नाटो के सदस्य देशों के द्वारा ही की जाती है। इसी के साथ नाटो की फंडिंग के लिए संयुक्त राज्य अमेरिका को नाटो फंडिंग का बैकबोन कहा जाता है। क्युकी नाटो फंड में तीन चैथाई भाग सयुंक्त राज्य अमेरिका का है। वर्ष 2020 में नाटो के सभी सदस्यों का संयुक्त सैन्य खर्च विश्व के कुल खर्च का 57 प्रतिशत रहा है। नाटो सदस्यों ने सहमति जाहिर करते हुए कहा है की उनका लक्ष्य 2024 तक अपने सकल घरेलू उत्पाद के कम से कम 2 प्रतिशत के लक्ष्य रक्षा ख़र्च तक पहुँचाना है।

Leave a Comment