बागवानी बीमा योजना: फसल लागत की भरपाई करने में मददगार है ये योजना, जानें लाभ

बागवानी बीमा योजना | Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana: हरियाणा सरकार द्वारा किसानों की आय को दो गुनी करने और बाग़बानी फसलों की खेती करने वाले किसानों को प्राकृतिक आपदा के चलते क्षतिग्रस्त हुई फसलों पर बीमा कवर प्रदान करने के लिए बागवानी बीमा योजना (Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana)की शुरुआत की गई है। इस योजना के माध्यम से सरकार सब्जी, फल व मसाले की खेती करने वाले किसानों को उनकी बागबानी फसल के हुए नुक्सान पर राहत प्रदान करने के लिए बीमा कवर का लाभ प्रदान करती है। जिससे खेती में हुए नुक्सान की भरपाई की जा सके और किसानों को आर्थिक समस्या का सामना ना करना पड़े। चलिए जानते हैं बागबानी बीमा योजना क्या है और इससे किसानों को क्या-क्या लाभ मिल सकेगा।

जानिये क्या बागवानी बीमा योजना

बागबानी बीमा फैसला योजना (Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana) हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी द्वारा 22 सितम्बर 2021 में शुरू की गई योजना है, जिसके माध्यम से प्राकृतिक आपदा जैसे बारिश, आंधी-तूफ़ान, ओलावृष्ठि, सूखे की वजह से खराब होने वाले बागबानी फसलों पर किसानों को बीमा कवर दिया जाता है। जिसके लिए योजना में 21 सब्जी, फल और मसालो को शामिल कर बीमा कवर का लाभ दिया जाएगा।

इन फसल लागत की भरपाई के लिए मददगार है बागवानी बीमा योजना

इस योजना Mukhyamantri Bagwani Bima Yojana के अंतर्गत 21 बागबानी फसलों को योजना में शामिल कर किसानों की फसलों की क्षति पर उन्हें लाभ दिया जाएगा, जिनमे सब्जयों में आलू, टमाटर, प्याज, फूल गोभी, मटर, गाजर, बैंगन, घीया, भिंडी, करेला, हरी मिर्च, शिमला मिर्च, बैंगन, मूली व पत्ता गोभी और फलों की फसलों में आम, किननू, बेर व अमरूद, और मसलों में लहसुन और हल्दी की फसलों को योजनसा में शामिल किया गया है।

विभागीय अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार बागवानी किसानों के केंद्र सरकार की और से शुरू की गई बेहद ही लाभकारी योजना है। जिससे प्राकृतिक आपदा से होने वाले नुकसान से अपनी फसल को नुकसान से सुरक्षित रखने के लिए किसान इसका बीमा करवा सकेंगे, इसके लिए उनका रजिस्ट्रेशन मेरी फसल मेरा ब्यूरो में होना अनिवार्य है। जिससे किसानों की होने वाली क्षति पर उन्हें योजना का लाभ मिल सके।

बागवानी बीमा योजना में फसल लागत की भरपाई के लिए मिलेगा लाभ

  • बागवानी फसल बीमा योजना में किसानों को सब्जी व मसालों पर 30 हजार रूपये प्रतिएकड़ का बीमा किया जाएगा, जिसके लिए किसानों को 750 रूपये प्रति एकड़ का भुगतान करना होगा।
  • फलों की खेती के लिए किसान 40 हजार रूपये प्रति एकड़ का बीमा एक हजार रूपये प्रति एकड़ का भुगतान करके करवा सकेंगे।
  • योजना में फसलों के नुक्सान पर किए गए दावे का निपटान करने के लिए फसल नुक्सान को चार श्रेणियों 25%, 50%, 75% और 100% में आका जाएगा और इसके आधार पर उनकी फसलों की भरपाई की जाएगी।

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें।

Leave a Comment