MP Drone School: एमपी के ग्वालियर में खुला राज्य का पहला ड्रोन स्कूल, जानें क्या है इसकी खासियत

MP Drone School– मध्य प्रदेश सरकार के माध्यम से ग्वालियर में ड्रोन स्कूल का उद्घाटन किया गया है। इस अवसर पर सीएम शिवराज सिंह चौहान केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया शामिल रहें। एमपी के ग्वालियर में यह राज्य का पहला ड्रोन स्कूल खोला जा रहा है। इसमें कई तरह की तकनीकी सुविधाएँ होगी जो शिक्षा के क्षेत्र में एक नई पहल शुरू करके इस स्कूल को ओपन किया गया है। सीएम एवं केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री की उपस्थिति में इसका उद्घाटन किया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी की द्वारा मीडिया को यह जानकारी दी गयी है की MP first Drone School ड्रोन तकनीकी युवाओं के लिए विशेष रूप से सीखने के लिए नई-नई राह खोलने में मदद करेगी।

MP Drone School: एमपी के ग्वालियर में खुला राज्य का पहला ड्रोन स्कूल
MP Drone School: एमपी के ग्वालियर में खुला राज्य का पहला ड्रोन स्कूल

MP Drone School

मध्य प्रदेश राज्य में ड्रोन स्कूल का उद्घाटन ग्वालियर में किया गया। इस प्रक्रिया के आधार पर उद्योग क्षेत्र में रोजगार की अधिक पॉसिबिलिटी है। क्युकी ड्रोन का इस्तेमाल विभिन्न तरह के क्षेत्रों में कई उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। सीएम के द्वारा ड्रोन को लेकर यह कहा गया है की यह तकनीकी से जोड़कर आगे बढ़ने का रास्ता एक्सपेंसिव करने में मदद करेगा। साथ ही इसके आधार पर रोजगार के अवसर बढ़ने में भी मदद होगी।

ड्रोन स्कूल उद्घाटन समारोह में अधिक लोग शामिल हुए थे। इस प्रोग्राम में किसानों और छात्रों के साथ कई ड्रोन निर्माता सेवा प्रदाता ,उत्साही और अन्य लोग भी एकत्रित हुए। ड्रोन स्कूल को लेकर पहले मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा था की एमपी में पांच ड्रोन स्कूल की स्थापना की जाएगी।

एमपी सरकार की यह रणनीति ग्वालियर सहित मध्य प्रदेश की प्रगति और उन्नति में मील का पत्थर साबित होगा।

जानें क्या है इसकी खासियत

आदरणीय स्वर्गीय माधवराव सिंधिया जी की जयंती के शुभ अवसर पर राज्य में एमपी सरकार के द्वारा ड्रोन स्कूल का उद्घाटन किया गया है। इस बात की जानकारी सीएम के द्वारा अपने ट्विटर अकाउंट से भी दी गयी है। इससे पहले मध्य प्रदेश ने ग्वालियर में ड्रोन मेटा का भी आयोजन किया था ,जो देश के सभी राज्यों में से यह पहला राज्यों में से एक था। जिसने ऊँचे स्तर पर ड्रोन तकनीक का उपयोग किया है।

एमपी ड्रोन स्कूल की सबसे बड़ी खासियत यह होगी की यह खेतो के बड़े एरिया में बीज और कीटनाशक डालने और कृषि सर्वे में भी ड्रोन का इस्तेमाल किया जा सकता है। ड्रोन मेकिंग पढ़कर स्टूडेंट्स को रिसर्च करने में मदद मिलेगी। सर्वे और जमीन नापने आदि में भी ड्रोन का इस्तेमाल होगा ,इसके साथ ही किसी खास स्थान पर निगरानी करने के लिए पुलिस फ़ोर्स भी ड्रोन का उपयोग कर सकते है। इन सभी जेनर्स में छात्रों को सुजान किया जाएगा।

Leave a Comment