ITR Filing: इन टैक्सपेयर्स के खिलाफ सरकार कर सकती है मुकदमा, जुर्माने के साथ हो जाएगी जेल

ITR Filing: सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने वर्ष 2021-22 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की अंतिम तिथि 31 मार्च 2022 निर्धारित की गयी है। पहले ITR फाइल करने की अंतिम तिथि 31 दिसंबर 2021 तय की गयी थी। यदि आपने अभी तक आईटीआर फाइल नहीं किया है तो 31 मार्च तक अपना टैक्स पे कर सकते है। यदि आपने निर्धारित की गयी तिथि तक कर का भुगतान (ITR Filing) नहीं करते है तो सरकार आप पर पैनल्टी के साथ-साथ आपको जेल भी भेज सकती है। ITR Filing करने के लिए सरकार द्वारा तय की गयी डेडलाइन के आधार पर टैक्सपेयर्स को इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करना होगा।

इन टैक्सपेयर्स के खिलाफ सरकार कर सकती है मुकदमा

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के माध्यम से लागू किये नियमो के आधार पर सरकार आईटीआर भरने (ITR Filing) में असफल होने वाले सभी टैक्सपेयर्स के खिलाफ मुकदमा नहीं चलाती है। जिन टैक्सपेयर्स की देनदारी दस हजार रूपये से अधिक होती है केवल उन्ही के खिलाफ सरकार मुकदमा दर्ज करती है। लागू किये गए नियमों के अनुसार यदि टैक्सेबल इनकम 5 लाख रुपये से ज्यादा है तो करदाता 5 हजार रूपये तक जुर्माना भरना पड़ सकता है। इसी के साथ 5 लाख रूपये से कम इनकम पर 1 हजार रूपये का जुर्माना लगाया जा सकता है।

दस हजार रूपये से अधिक टैक्स पे करने वाले लोगो पर सरकार मुकदमा चला सकती है।

ITR Filing ना करने पर जुर्माने के साथ हो जाएगी जेल

यदि आपके द्वारा निर्धारित की गयी तिथि के अनुसार 31 मार्च 2022 तक आईटीआर फाइल नहीं किया जाता है तो इसमें आपको पैनल्टी के साथ-साथ 3 वर्ष एवं अधिकतम रूप में 7 साल की जेल हो सकती है। बकाया टैक्स और ब्याज के आलावा देनदारी पर 50 से 200 फीसदी तक पैनल्टी लगायी जा सकती है। सरकार चाहे तो नियमों का पालन ना करने वाले ऐसे टैक्सपेयर्स पर कोर्ट केस भी किया जा सकता है।

आईटीआर ऑनलाइन फाइल ऐसे करें

  • ऑनलाइन ITR Filing करने के लिए www.incometax.gov.in की आधिकारिक वेबसाइट में जाएँ।
  • वेबसाइट के होम पेज में Filing your ITR के विकल्प में क्लिक करें।
  • नए टैब में अपनी लॉगिन आईडी दर्ज करके कंटीन्यू के विकल्प में क्लिक करें।
  • इसके बाद असेसमेंट ईयर, फाइलिंग टाइप और स्टेटस चुनें और प्रोसीड के विकल्प में क्लिक करें।
  • इसके पश्चात ITR फाइल करने के कारण का चयन करें।
  • सभी महत्वपूर्ण जानकारी भरने के बाद यदि पेमेंट बनता है तो उसका भुगतान करें।
  • इसके बाद Preview पर क्लिक करके रिटर्न सबमिट के ऑप्शन में क्लिक करें।
  • वेरिफिकेशन के लिए प्रोसीड के ऑप्शन में क्लिक करें ,इसके बाद वेरिफिकेशन मोड में क्लिक करें।
  • सभी प्रक्रिया पूरी होने के बाद EVC/OTP भरकर ITR को ई-वेरिफाई करें ,और आईटीआर-वी की सिग्नेचर कॉपी वेरिफिकेशन के लिए सीपीसी सेंड करें।

बैंक मित्र बनकर कर सकते हैं कमाई, ऐसे करें आवेदन – सैलरी के साथ कमीशन का भी फायदा

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें ।

Leave a Comment