Booster Dose: बूस्‍टर और पिछली डोज में कितने दिन का अंतर होना चाहिए, ऐसे करायें रजिस्‍ट्रेशन

Booster Dose: देश में एक बार फिर से कोरोना की तीसरी लहर के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए सरकार ने अपनी तैयारियाँ तेज कर ली हैं, जिसके लिए अब कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन के बूस्टर डोज (Precautionary Dose) को देश के फ्रंट लाइन वर्कर्स, हेल्थ केयर वर्कर्स के साथ-साथ गंभीर बीमारियों से जूँझ रहे 60 वर्ष या इससे अधिक आयु के वृद्धजनों की सुरक्षा के लिए वैक्सीन की तीसरी डोज 10 जनवरी 2022 के लगवाना शुरू कर दिया गया है। तो चलिए जानते हैं यह बूस्टर डोज क्या है और इसे लगवाना क्यों आवश्यक है।

बूस्‍टर और पिछली डोज में कितने दिन का अंतर होना चाहिए

इन्हे लगवाई जाएगी Booster Dose

कोरोना महामारी के तेजी से फैलते हुए संक्रमण के कारण देश भर में बहुत से राज्य जैसे महाराष्ट्र, दिल्ली, तमिल नाडु, राजस्थान आदि में आए दिन मामले बढ़ते जा रहें हैं ऐसे में लोगो की सुरक्षा करने वाले फ्रंट लाइन वर्कर्स, हेल्थ केयर वर्कर्स जिन्हे पहले ही कोरोना वैक्सीन के दो डोज लगवाए जा चुके हैं उन्हें अब तीसरा बूस्टर डोज लगवाया जाएगा, इनके साथ ही 60 वर्ष या इससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को भी इस बूस्टर डोज की तीसरी डोज लगवाई जाएगी, जिससे प्रतिदिन ओमीक्रॉन के बढ़ते मामलों में कमी लाइ जा सकेगी और लोगों को कोरोना से सुरक्षित किया जा सकेगा।

जानिये क्या और जरुरी है बूस्टर डोज

Booster Dose कोरोना महामारी के आए नए वेरिएंट ओमीक्रॉन के संक्रमण से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए कोविड वैक्सीन की तीसरी परीकॉशनरी डोज है, जिसे जारी करने की घोषणा प्रधनामंत्री नरेंद्र मोदी जी पिछले महीने की गई थी, इस डोज को लगवाना लोगों के लिए इसलिए आवश्यक है, क्योंकि करना की पहली और दूसरी डोज को लगवाए काफी समय बीत जाने से लोगों के शरीर में इम्युनिटी धीरे-धीरे कम होती जा रही है, और इस नए वेरिएंट ओमीक्रॉन का कोरोना की पहली और दूसरी डोज लगवा चुके लोगों पर भी संक्रमण के दिखने के चलते शरीर में इस वायरस से होने वाली बिमारी से बचने के लिए इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए डॉक्टर्स और एक्सपर्ट्स भी कोरोना की तीसरी डोज (बूस्टर डोज) को लगवाने की सलाह लोगों को दे रहे हैं।

Booster Dose: दूसरी डोज के कितने दिन बाद लगवा सकेंगे बूस्टर डोज

जिन भी लोगों ने कोविद वैक्सीन की पहले और दूसरी डोज लगवा ली है, वही इसकी तीसरी डोज लगवाने के पात्र होंगे। बूस्टर डोज कोविड की दूसरी डोज के 9 महीने यानी (36 हफ्ते) के बाद ही लगवाई जा सकेगी, इससे पहले कोई भी व्यक्ति तीसरी डोज लगवाने के लिए पात्र नही माने जाएँगे, इसके साथ ही व्यक्ति को बूस्टर डोज की वही वैक्सीन लगवाई जाएगी जो उन्हें पहली और दूसरी डोज में लगवाई गई थी, यानि अगर अगर किसी व्यक्ति को पहली और दूसरी डोज कोविशील्ड की लगी है तो उन्हें तीसरी डोज भी कोविशील्ड की ही लगाईं जाएगी।

बूस्टर डोज के लिए Cowin पोर्टल पर करें रजिस्ट्रेशन

बूस्टर डोज के लिए केवल पात्र व्यक्ति (फ्रंट लाइन वर्कर्स, हेल्थ केयर वर्कर्स, 60 वर्ष या इससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक) ही अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं, इसके लिए उन्हें Cowin Portal या ऐप पर जाकर रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को पूरा कर वैक्सीनेशन सेंटर, वैक्सीनेशन की तारीख और समय का चयन करके अपने आधार कार्ड यदि नहीं है तो पैनकार्ड या रजिस्टर्ड मोबाइल जिसमे अपॉइंटमेंट बुक करवाया है इसके साथ सभी दस्तावेज लेकर सेंटर में जाना होगा।

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें।

Leave a Comment