Aadhaar Partial Verification: UIDAI जल्दी ही कर सकता है एक और सर्विस की घोषणा

Aadhaar Partial Verification: जैसी की आप सभी जानते ही है कि आधार कार्ड सभी के लिए कितना जरुरी है। यह एक तरह का जरुरी दस्तावेज है। आधार कार्ड का उपयोग सरकारी व गैर सरकारी कामों के साथ अन्य कई कार्यो के लिए किया जाता है। देश के छोटे से लेकर बड़े लोगों के पास आधार कार्ड होना आवश्यक है। यदि किसी को बैंक में खाता खुलवाना हो या किसी को अपनी जमीन से जुड़े काम करने हो तो आधार कार्ड होना जरुरी है।

आपको बता दें, यदि किसी को अपनी उम्र का वेरिफिकेशन (ऐज वेरिफिकेशन) करवाना होगा तो इसके लिए UIDAI द्वारा जल्द ही एक सर्विस की घोषणा जारी कर सकता है। इस नयी सर्विस का नाम है आधार पार्शियल वेरिफिकेशन (Aadhaar Partial Verification)। सौरव गर्ग जो की सीईओ है यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया के, उन्होंने यह जानकारी दी है कि UIDAI ही जल्द ही इस नयी सर्विस आधार पार्शियल वेरिफिकेशन को और सक्षम बनाने के सोलूशन्स निकालने के लिए तैयार है।

Aadhaar Partial Verification: जानिए क्या कहा CEO सौरव गर्ग ने

सौरव गर्ग द्वारा भारत डिजिटल सम्मलेन 2022 में कहा कि UIDAI ऐसे समाधानों में इंडस्ट्री एरिया (उद्योग जगत) से अपनी राय जानने को उत्सुक है। उनके द्वारा यह भी बोला गया है कि वह आंशिक सत्यापन यानी Partial Verification की सर्विस को शुरू करने के लिए गौर करने को तैयार है। हो सकता है कुछ नागरिक अपनी आयु की पुष्टि करना चाहते होंगे और उन्हें अन्य किसी तरह की जानकारी नहीं जाननी होगी। IAMAI (इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया) द्वारा सम्मेलन को आयोजित किया गया है।

जो संस्था आधार कार्ड जारी करती है वह आधार 2.0 को जारी करने की तरफ एक कदम और बढ़ा रही है। इसके साथ ही ब्लॉकचैन और क्वॉन्टम कंप्यूटिंग के उपयोग की और गौर कर रही है। UIDAI के प्रमुख का कहना है कि इन सभी मुद्दों पर इंडस्ट्री एरिया की राय जानने से पता चल पायेगा कि इस सर्विस करने की मांग कितनी है। उन्होंने बताया कि किसी नागरिक के खास इलाका जानने के लिए भी सत्यापन की जरुरत हो सकती है। बता दें, अथॉरिटी द्वारा अभी इस सर्विस को डेवलप्ड करने के लिए अभी तक सोलूशन्स नहीं निकाले गए है पर इसके बारे में गौर किया जा सकता है।

UIDAI जल्दी ही कर सकता है एक और सर्विस की घोषणा

बता देते है कि आज के समय में 5 करोड़ से भी ज्यादा सत्यापन दैनिक स्तर पर किये जा रहे है। इसके साथ ही हर महीने आधार समर्पित भुगतान प्रणाली (आधार इनेबल्ड पेमेंट सिस्टम) के जरिये 40 करोड़ से भी ज्यादा बैंकिंग ट्रांज़ैक्शन किये जा रहे है। आधार 2.0 के जरिये ऑटोमेटेड बायोमेट्रिक मैचिंग अधिक तेजी से हो पायेगी और यह और भी ज्यादा सिक्योर होगा। अथॉरिटी ब्लॉकचैन और क्वान्टम कंप्यूटिंग टेक्नीक का लाभ लेने के में विचार कर रही है। क्यूंकि इसके जरिये वह सुरक्षा समाधान ला सकते है। उनके द्वारा यह भी कहा गया है कि UIDAI के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण यही है कि वह अथॉरिटी आधार से जुड़े नागरिकों की जानकारी की सुरक्षा का ख्याल रखते हुए साइबर सिक्योरिटी को और मजबूत बनाने के लिए काम कर रहे है।

ऐसी ही और भी सरकारी व गैर सरकारी योजनाओं की जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट pmmodiyojanaye.in को बुकमार्क जरूर करें।

Leave a Comment